Language

  • English
  • Hindi
  • Marathi
  • Kannada
  • Telugu
  • Tamil
  • Gujarati

मौजूदा कर व्यवस्था में, विभिन्न परिस्थितियों में इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ उठाने के लिए कुछ अनुबंध लागु किए गये हैं| इसका एक संक्षिप्त सिंहावलोकन नीचे बताया गया है:

इनपुट टैक्स क्रेडिट के प्रकारइनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ उठाने के लिए लागु की गयी शर्तें (आईटीसी)
वैटएक वैट डीलर के रूप में, व्यापार की प्रक्रिया में खरीदादारी करने के बाद आप वस्तुओं (कच्चा माल) पर किए हुए वैट भुगतान की राशि पाने का लाभ ले सकते हैं, जो शर्तों के अधीन होगा| इस कच्ची सामग्री की आप फिर से बिक्री कर सकते है या उसका माल के निर्माण के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं| राज्य के भीतर पंजीकृत डीलरों से की हुई खरीददारी केवल आईटीसी के लिए पात्र हैं|
सेनवैट / सेवा करएक निर्माता के रूप में, आप सभी आदानों पर प्रयुक्त सेनवैट क्रेडिट का लाभ उठा सकते जो अंतिम उत्पादों के निर्माण के संबंध में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से इस्तेमाल हो रहा हैं| आप इनपुट सेवा पर किए गए सेवा कर के भुगतान पर आईटीसी का भी लाभ उठा सकते हैं।
अगर आप एक सेवा प्रदाता हैं जो कर संबंधी (टैक्स) सेवा प्रदान कर रहे हैं, तो आप सेवा कर (सर्विस टैक्स) योग्य सेवाओं के प्रावधान के लिए इस्तेमाल किए गये इनपुट सेवाओं की सुविधाओं को उपलब्ध कराने के पश्चात उसका भुगतान पाने के लिए आईटीसी का लाभ उठा सकते हैं।

जीएसटी व्यवस्था के तहत, इनपुट टैक्स क्रेडिट का हर पंजीकृत कर योग्य (टेक्सेबल) व्यक्ति से लाभ उठाया जा सकता हैं| जिसका इस्तेमाल व्यापार की प्रक्रिया में या व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक सभी आदनों में हुआ हैं|.

यह, कुछ शर्तों के अधीन होना एक ज़ाहिर सी बात है। जीएसटी के तहत इनपुट क्रेडिट का लाभ उठाने के लिए जिन शर्तों का पालन करना ज़रूरी हैं वे नीचे निम्नलिखित किए हैं:

  1. आपके पास एक पंजीकृत व्यक्ति द्वारा जारी किया गया कर (टैक्स) चालान / डेबिट या क्रेडिट नोट होना ज़रूरी हैं|
  2. माल / सेवाओं को प्राप्त कर लिया गया हैं|
  3. आपने संबंधित महीने के लिए जीएसटीआर -3 दायर किया हैं|
  4. निर्धारित टैक्स का आपूर्तिकर्ता द्वारा सरकार को भुगतान किया गया है, जो नकद व्यवहार से या आईटीसी के उपयोग से हुआ हैं|

conditions for availing GST Input Tax Credit - hindi

हम अब ऐसी स्थितियों को समझते हैं जिनमें जीएसटी के तहत आईटीसी का लाभ उठाने के लिए हम पात्र होते हैं |

एसी स्थितिया जिनके तहत इनपुट टैक्स क्रेडिट जीएसटी के मदद से मिल सकता हैं, यह आगे बताया हैं|

आप जीएसटी के तहत पंजीकरण के लिए आवेदन कब करते हैं

आप 2 परिदृश्यों में जीएसटी के तहत पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकते हैं:

  1. आप रजिस्टर करने के लिए उत्तरदायी हैं
    या
  2. आप स्वेच्छा से पंजीकरण के लिए आवेदन करते हैं
  • • जीएसटी के तहत जब रजिस्टर करने के लिए आप उत्तरदायी बनते हैं तब
    जीएसटी के तहत जब आप रजिस्टर करने के लिए उत्तरदायी बनने पर पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकते हैं, आप जानकारी और सूचनाओं में निहित अद्धनिर्मित या तैयार माल पर आईटीसी का लाभ उठा सकते हैं,

अगर आप नीचे बताए गये मुद्दो के लिए पात्र हैं, तो एक दिन पहले कर का भुगतान करने के लिए आप उत्तरदायी बनेंगे:

      • रजिस्टर करने के लिए उत्तरदायी बनने से 30 दिनों के भीतर पंजीकरण के लिए आवेदन किया हैं |
      • पंजीकरण की अनुमति दी गयी |

उदाहरण: आप परिधान कंपनी के एक निर्माता हैं| आपने 1 अक्टूबर 2017 पर पंजीकरण करने की सीमा पार कर दी है, आप के पास 5,00,000 रुपये मूल्य का कच्चे माल का स्टॉक हैं जिस पर आप ने कुल मिलाकर 18% जीएसटी के साथ (90,000 रुपये) का भुगतान किया है। आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपने 1 अक्टूबर 2017 से लेकर 30 दिनों के भीतर पंजीकरण का आवेदन कर दिया हैं, यदि नहीं, तो आप शेयर में कच्चे माल पर मिलने वाली 90,000 रुपये की आईटीसी की पात्रता खो देंगे।

  • आप स्वेच्छा से पंजीकरण के लिए जब आवेदन करते हैं

हालांकि आपने पंजीकरण की सीमा पार नहीं की है, मगर कानून के प्रावधानों में ‘स्वैच्छिक पंजीकरण’ के लिए अनुमति दी गयी हैं| आप स्वेच्छा से जीएसटी पंजीकरण के लिए आवेदन करते हैं, आप जानकारी और सूचनाओं में निहित अद्धनिर्मित या तैयार माल पर आईटीसी का लाभ उठा सकते हैं, आपको पंजीकरण की अनुमति दी जाने से पहले शेअर में ट्रेडिंग करने का लाभ मिलता हैं|

उदाहरण: आप इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों के एक व्यापारी हैं और अपने व्यापार के संचालन के चलते आप स्वेच्छा से पंजीकरण के लिए आवेदन दे रहे हैं, भले ही आपने इसकी सीमा पार नहीं की है। आपको 10 सितंबर 2017 पर पंजीकरण की अनुमति मिल गयी है और आपके स्टॉक में रुपये 2,00,000 के इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद हैं जिस पर 18% जीएसटी राशि (36,000 रुपये) का भुगतान आपके द्वारा कर दिया गया है। आप शेयर में 36,000 रुपए के आईटीसी का इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों पर लाभ ले सकते हैं|

जब आप रचना योजना छोड़ने का निर्णय लेते हुए एक नियमित रूप से व्यापारी हो जाते हैं

आप संरचना योजना के तहत पंजीकृत हैं और आपका कुल कारोबार 50 लाख रुपए को पार कर रहा हैं, तो आपको रचना योजना से अलग होना पड़ता हैं और आप एक नियमित डीलर बन जाते हैं। जब आप रचना योजना छोड़कर एक नियमित रूप से व्यापारी बन जाते हैं, तब भुगतान करने के लिए उत्तरदायी बनने से एक दिन पहले से आप आदानों (स्टॉक में अद्धनिर्मित या तैयार माल में निहित आदानों), और कैपिटल गुड्स पर आईटीसी का लाभ ले सकते हैं| पूंजीगत वस्तुओं पर क्रेडिट कुछ प्रतिशत कम हो जाएगा, जिसके बारे में आपको अधिसूचित किया जाएगा|

उदाहरण: आपको जीएसटी के तहत एक रचना डीलर के रूप में पंजीकृत किया गया है और आपका कारोबार अब रुपए 50 लाख को पार कर गया। इसलिए, आप रचना योजना छोड़कर एक नियमित रूप से व्यापारी बन जाते हैं। आपका कारोबार दिनांक 10 अक्टूबर 2017 पर 50 लाख रुपये को पार कर गया और 9 अक्टूबर 2017 पर अपने शेयर में शामिल इनपुट्स निम्नलिखित किए गये हैं-

इनपुट के प्रकारमूल्य (₹)जीएसटी की राशि जिसका भुगतान हो चुका हैं@ 18% (रुपयो में)
कच्चा माल1,00,00018,000
अद्धनिर्मित या तैयार माल50,0009,000
तैयार माल के आदान1,50,00027,000
इनपुट टैक्स का किया हुआ कुल भुगतान54,000

आप पूरे 54,000 रुपए का आईटीसी और पूंजीगत सामान पर (अधिसूचित प्रतिशत अंकों से कम करके) आईटीसी का लाभ उठा सकते हैं|

जब छूट प्राप्त वस्तु तथा सेवा कर योग्य हो जाते हैं

जिन वस्तुओं या सेवाओं पर जीएसटी की छूट घोषित की हैं वे जब कर योग्य बनते हैं, तब आप उन चीज़ो पर कर योग्य होने की आपूर्ति आने के एक दिन पहले आईटीसी का लाभ उठा सकते हैं:

  • स्टॉक में उपलब्ध इनपुटस और अद्धनिर्मित या तैयार माल की इनपुटस, जो निहित छूट की आपूर्ति करने के सम्बद्ध में हैं|
  • पूंजीगत वस्तुएं का विशेष रूप से छूट दी गई चीज़ो के आपूर्ति के लिए इस्तेमाल किया| पूंजीगत वस्तुओं पर क्रेडिट कुछ प्रतिशत कम हो जाएगा, जिसके बारे में आपको अधिसूचित किया जाएगा|

उदाहरण: आप एक छूट प्राप्त वस्तु का निर्माण कर रहे हैं| छूट दी गई वस्तु को 5 दिसंबर 2017 पर कर योग्य बनाया जाता है| आप के पास 4 दिसंबर 2017 स्टॉक में (छूट दी गई वस्तु का निर्माण करने के लिए) निम्नलिखित इनपुटस हैं-

रहतिया – 4.12.2017
इनपुटसमूल्य (रु।)जीएसटी की राशि जिसका भुगतान हो चुका हैं@ 18% (रुपयो में)
कच्चा माल अ3,00,00054,000
कच्चा माल ब30,000  5,400
कुल3,30,00059,400

कर योग्य वस्तु जिन पर छूट दी गई है उनके निर्माण हेतु इस्तेमाल की जानेवाली आदानों पर आप 59,400 रुपए के पूरे आईटीसी का आप लाभ उठा सकते हैं| आप भी विशेष रूप से छूट दी गई पूंजीगत वस्तुओं पर आईटीसी का लाभ उठा सकते जो कुछ प्रतिशत अंको से कम किया जाएगा और इसके बारे आपको अधिसूचित किया जाएगा|

जब कारोबार में बिक्री / विलय / डिमर्जर / समामेलन / लीज / हस्तांतरण होता है

इन मामलों में से किसी में, अगर वहाँ देनदारियों के हस्तांतरण के लिए एक विशिष्ट प्रावधान है, तो अप्रयुक्त आईटीसी को बेच, विलय, अनमर्ज, या समामेलित किया जा सकता हैं, अथवा स्थानांतरित कर व्यापार को हस्तांतरित किया जा सकता है।

उदाहरण: मोहन इलेक्ट्रिकल्स प्राइवेट लिमिटेड ने राम इलेक्ट्रिकल्स प्राइवेट लिमिटेड को अपना कारोबार बेच दिया| बिक्री के समय, मोहन इलेक्ट्रिकल्स प्राइवेट लिमिटेड के पास 2,50,000 रुपये का अप्रयुक्त आईटीसी था। बिक्री के समझौते में, इस बात पर सहमति बनी कि सभी देनदारियों और मोहन इलेक्ट्रिकल्स प्राइवेट लिमिटेड की संपत्ति राम इलेक्ट्रिकल्स प्राइवेट लिमिटेड को हस्तांतरित किया जाएगा| इस मामले में, मोहन इलेक्ट्रिकल्स प्राइवेट लिमिटेड 2,50,000 रुपये का अपना अप्रयुक्त आईटीसी राम इलेक्ट्रिकल्स प्राइवेट लिमिटेड को हस्तांतरीत कर सकते हैं।

जब माल और/या सेवाओं के आंशिक रूप से व्यापार के लिए और आंशिक रूप से अन्य प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जाता है

जब माल और / या सेवाओं के आंशिक रूप से व्यापार के लिए और आंशिक रूप से व्यावसायिक प्रयोजनों के अलावा अन्य उद्देश्य से इस्तेमाल किया जाता हैं, तब आईटीसी केवल व्यापार हेतु उपयोग किए गए भाग पर लागू होती है।

उदाहरण:

आप एक इलेक्ट्रॉनिक सामान के व्यापारी हैं और आपने 3,00,000 रुपये के एक निर्माता से कंप्यूटर्स खरीदे है। और इसपर 18% जीएसटी 54,000 रुपये का भुगतान किया जा चुका है। कुल खरीदे गये कंप्यूटर्स में से 1,00,000 रुपये मूल्य के सामान का उपयोग आप अपने निजी इस्तेमाल के लिए कर रहे हैं| और शेष कंप्यूटर ग्राहकों को बेच दिए गये| इस मामले में, आईटीसी केवल व्यापार के लिए उपयोग किए गए भाग, अर्थात 2,00,000 रुपये के उपर मिलने वाले लाभ पर लागू किया जा सकता है। । इसलिए, यहां पात्र आईटीसी 36,000 (2,00,000 * 18%) रुपये है।

जब माल और / या सेवाओं का आंशिक रूप से कर योग्य आपूर्ति के लिए और आंशिक रूप से छूट दी गई चीज़ो के आपूर्ति के लिए उपयोग किया जाता है

जब माल और / या सेवाओं का आंशिक रूप से कर योग्य आपूर्ति के लिए और आंशिक रूप से छूट दी गई चीज़ो के आपूर्ति के लिए उपयोग किया जाता है तब आईटीसी केवल कर योग्य या शून्य दर्जा आपूर्ति में लाभ मिल सकता हैं| और बचा हुआ भाग (माल या सेवा का हिस्सा) जिसका इस्तेमाल छूट दी गई चीज़ो के आपूर्ति के लिए अपनाया जाता हैं, या ऐसी आपूर्ति जहाँ आदाता रिवर्स चार्ज के अनुसार भुगतान करता हैं, इन दोनो स्थितियों में आईटीसी का प्रभार लगाने की अनुमति नही हैं|

उदाहरण: आप एक निर्माता हैं। आपने 1,00,000 रुपये का कच्चे माल खरीददारी की है, जिस पर भुगतान किया जीएसटी का मूल्य 18,000 (1लाख का 18%) रुपये है। इस कच्चे माल के निर्माण में आंशिक रूप से आइटम ए का इस्तेमाल किया गया है जो कर योग्य हैं और बाकी आइटम बी अपनाया गया हैं, जिसपर छूट दी गई है। तब इसी परिस्थिति में आगे की जानकारी नीचे बताई जाती हैं-

इनपुटमूल्य (रु।)आइटम ए के उत्पादन में निवेश किया गया मूल्य (कर योग्य) (रु.)आइटम बी के उत्पादन में निवेश किया गया मूल्य (छूट) (रु.)जीएसटी पर इनपुट भुगतान (रु।)आनुपातिक आइटम ए (कर योग्य) को निर्माण करने में भुगतान किया गया जीएसटी का हिस्सा (रु।)आनुपातिक आइटम बी (छूट) को निर्माण करने में भुगतान किया गया जीएसटी का हिस्सा (रु।)
कच्चा माल1,00,00060,00040,00018,00010,8007,200

आप आईटीसी का लाभ आइटम ए के निर्माण में किए गये कच्चे माल के हिस्से पर उठा सकते हैं, जिसका मूल्य 10,800 रुपये इतना हैं| आइटम बी के निर्माण में इस्तेमाल की गयी सामग्री का आइटीसी राशि 7,200 रुपये इतनी हैं, जिसका लाभ लेने की अनुमति नहीं है क्योंकि आइटम बी पर छूट दी गई है।

असाधारण परिदृश्यें

नीचे सूचीबद्ध कुछ असाधारण परिदृश्य बताए गये हैं जिनमें आईटीसी का लाभ उठाया जा सकता है, यह निर्धारित शर्तों के अधीन हैं।

जब माल कई हिस्सों में या किश्तों में प्राप्त होता हैं

जब माल कई हिस्सों में या किश्तों में प्राप्त होता हैं, तब आइटीसी का लाभ केवल आखरी हिस्से या किश्त में प्राप्त किया जा सकता हैं|

उदाहरण: आप एक मोबाइल फोन के व्यापारी हैं। आपने 1 अगस्त 2017 के दिन एक निर्माता से मूल्य 5000 रुपये के 50 मोबाइल फोन खरीदे हैं| इस बात पर सहमति है कि मोबाइल फोन्स की आपूर्ति दो महीने के कालावधि में की जाएगी, जिसमें हर महीने के पहीले तारीख पर 25 मोबाइल फोन व्यापारी को भेज दिए जाएँगे| प्रत्येक के 2 लाट के निर्माता द्वारा भेजा जाएगा। आपके आवक आपूर्ति की सूची नीचे बताई गयी है –

आवक आपूर्ति रजिस्टर

तारीखमाल का विवरणमात्रामूल्यकुलसीजीएसटीएसजीएसटी

आइजीएसटी

मूल्यरकममूल्यरकममूल्य रकम
1 सितम्बर ‘17मोबाइल फोन्स505,0002,50,0009%22,5009%22,500 – –
1 अक्टूबर ‘17मोबाइल फोन्स 50 5,000 2,50,000 9%22,5009%22,500 – –
Total1005,00,00045,00045,000 –

इधर, भले ही मंगाए गये मोबाइल फोन्स के पहीले हिस्से की आपूर्ति 1 सितंबर 2017 को प्राप्त की गयी थी, आप केवल 1 अक्टूबर 2017 पर प्राप्त किए गये दूसरे एव अंतिम हिस्सेपर 90,000 रुपये इतना आईटीसी का लाभ उठा सकते हैं|

पाइपलाइनों और दूरसंचार टावरों पर आईटीसी

पाइपलाइनों और दूरसंचार टावरों की खरीददारी के बाद उनपर आईटीसी का निम्नलिखित तरीके से लाभ उठाया जा सकता है|:

साललाभ मिलने के लिए योग्य अधिकतम उपलब्ध आईटीसी
वित्तीय वर्ष में जिसमें पाइप लाइन और / या दूरसंचार टॉवर प्राप्त किया हैभुगतान की गई कुल इनपुट टैक्स की एक तिहाई राशि
अगला सालकुल इनपुट टैक्स की दो तिहाई राशि, पिछले वर्ष में लाभ उठाए गये क्रेडिट सहित
बाद में आनेवाला कोई भी वित्त वर्षइनपुट क्रेडिट की शेष राशि

उदाहरण: एबीसी टेलीकॉम प्राइवेट लिमिटेड ने अप्रैल 2017 में एक दूरसंचार टॉवर की खरीददारी की, जिसपर जीएसटी भुगतान 30 लाख रुपये इतना किया है। वे निम्नलिखित तरीके से टावर पर आईटीसी का लाभ उठा सकते हैं:

साललाभ मिलने के लिए योग्य अधिकतम उपलब्ध आईटीसी
201710 लाख
201810 लाख
201910 लाख

इस अनुच्छेद में, हम ऐसे परिदृश्य जिनमें आईटीसी का लाभ उठाया जा सकता है उनको देखा, और ऐसी स्थितियों में जिन शर्तों को लागू कीया जा सकता हैं उन्हे देखा| हमारे अगले ब्लॉग में, हम उन स्थितियों की बात करेंगे जिनसे आईटीसी का लाभ उठाया नहीं जा सकता हैं|

जल्द आ रहा है:

आईटीसी की गैर पात्रता

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6