1 जुलाई, 2017 को जीएसटी के आगमन के साथ, आपके सामने सबसे महत्वपूर्ण कार्य यह हैं, कि आप सटीक चालान उत्पन्न करें, जो जीएसटी कर चालान के लिए निर्धारित मानदंडों को पूरा करता हैं। जीएसटी टैक्स इनवॉइस का एक महत्वपूर्ण घटक है – आपूर्ति पर एकत्र कर।

सप्लाई पर एकत्र किए जाने वाले कर के सही मूल्य की गणना करने के लिए, वस्तुओं या सेवाओं पर लागू जीएसटी दर का निर्धारण महत्वपूर्ण है | सही मूल्य निर्धारित करना समान रूप से महत्वपूर्ण है, जिस पर निर्धारित दर पर कर लगाया जाना है | अगर ऐसा नहीं किया जाता है, तो इसका परिणाम अनावश्यक मुकदमों, ब्याज की लेवी ,हो सकता है और प्राप्तकर्ता आपूर्ति पर इनपुट क्रेडिट भी खो सकता है।

जिस मूल्य पर एक आपूर्ति पर टैक्स लगाया जाना है, वह मूल्य निर्धारित करने के लिए यह गाइड आपकी सहायता करेगी । यह मान जिस पर जीएसटी लगाया जाना है, इसे लेनदेन मूल्य कहा जाता है।

इसके अलावा पढ़ें: माल और सेवाओं की आपूर्ति: इसका क्या मतलब है?

उस मान की गणना के लिए चरण जिन पर जीएसटी को चालान में लगाया जाना है

1. माल की आपूर्ति या सेवा की कीमत निर्धारित करें
2. कोई अतिरिक्त शुल्क, जैसे कमीशन, पैकिंग को जोड़ें
3. जीएसटी के अलावा आपूर्ति पर लागू कोई भी अन्य टैक्स जोड़ें
4. इनवॉइस में दिखाए गए डिस्काउंट को घटायें

उदाहरण : कर्नाटक में स्थित रोहन प्राइवेट लिमिटेड, कर्नाटक के डीलर, डिसूजा एंड संस को 100 वॉशिंग मशीनों की आपूर्ति करते है | 1 वॉशिंग मशीन की कीमत रु 30,000 है | रोहन प्राइवेट लि वॉशिंग मशीनों के पैकिंग के लिए रु 2,000 और भाड़े के लिए रु 8,000 लेते हैं | डिसूजा एंड संस को रु10,000 का डिस्काउंट दिया जाता है | वॉशिंग मशीनों पर लागू जीएसटी की दर 28% है।
आइए हम उस मूल्य पर पहुंचें, जिस पर जीएसटी को इस आपूर्ति में चार्ज किया जाना है।

विवरणमात्रादरराशि
वाशिंग मशीन10030,00030,00,000
जोड़ें: पैकिंग शुल्क2,000
जोड़ें: भाड़े का शुल्क8000
घटाएं : छूट(-)10,000
कर योग्य मूल्य30,00,000
सीजीएसटी @14%4,20,000
एसजीएसटी @ 14%4,20,000
कुल चालान मान38,40,000

इसके लिए चालान नीचे दिखाए गए चालान के अनुसार दिखाई देगा:

tax-invoice-calculation

आपूर्ति के बाद किए गए अतिरिक्त शुल्क या छूट का प्रबंध कैसे करें

मूल्य में परिवर्धन
  • अतिरिक्त शुल्क
  • राशि आपके (आपूर्तिकर्ता) द्वारा देय है , लेकिन प्राप्तकर्ता द्वारा दी गयी , जैसे कि परिवहन
  • विलम्बित भुगतान के लिए प्राप्तकर्ता पर लगाया गया ब्याज / विलम्ब-शुल्क/ जुर्माना

इन मामलों में, मूल चालान से जुड़ा डेबिट नोट प्रस्तुत किआ जाना चाहिए और जीएसटी को मूल्य पर लगाया जाना चाहिए |

उदाहरण: उपरोक्त उदाहरण में आपूर्ति पर, रोहन प्राइवेट लिमिटेड ने रु 60,000 का जुरमाना लगाया है , क्यों की डिसूजा एंड संस 30 दिनों की सहमति अवधि के भीतर भुगतान करने में विफल रहा है।
यहां, रोहन प्राइवेट लिमिटेड को ऊपर दिए गए चालान के खिलाफ डेबिट नोट प्रस्तुत करना चाहिए, जिसमे उन्हें 28% (वाशिंग मशीनों पर लागू दर) से जीएसटी चार्ज करना:चाहिए जिसकी गणना नीचे दिखाई गयी है :

विवरणराशि
देरी से भुगतान के लिए लगाया गया जुर्माना60,000
सीजीएसटी @ 14%8400
एसजीएसटी @ 14%8400
डेबिट नोट का कुल मान76,800

डेबिट नोट नीचे दिखाए गए डेबिट नोट के अनुसार दिखाई देगा:

debit-note-values

मूल्य से कटौती

•आपूर्ति के बाद दी गयी छूट | यदि आपूर्ति के बाद छूट दी जाती है, तो यह सुनिश्चित करें कि आपूर्ति से पहले यह सहमति हो गई है और इसे एक विशेष चालान से जोड़ा जा सकता है | इस तरह की छूट को लेनदेन मूल्य से घटाया जा सकता है | इसके लिए, डिस्काउंट राशि और लागू जीएसटी के लिए एक क्रेडिट नोट प्रस्तुत करें ।

उदाहरण: रोहन प्राइवेट लिमिटेड और डीसूजा एंड संस के समझौते के अनुसार, यदि डीसूजा एंड संस ऑनलाइन बैंकिंग द्वारा आपूर्ति के लिए भुगतान करते हैं, तो रोहन प्राइवेट लिमिटेड को चालान मान पर रु 2,000 की छूट देनी होगी । तदनुसार, श्री डीसूजा ऑनलाइन बैंकिंग द्वारा भुगतान करते हैं | रु 2,000 की दी गयी छूट के लिए , श्री रोहन को मूल चालान के खिलाफ विवरण के साथ एक क्रेडिट नोट पप्रस्तुत करना होगा , जिसका विवरण नीचे दिए गया है :

विवरणराशि
छूट2000
सीजीएसटी @ 14%280
एसजीएसटी @ 14%280
कुल क्रेडिट नोट वैल्यू2560

क्रेडिट नोट नीचे दिखाए अनुसार दिखाई देगा:

revised-invoice-updated

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6