जी एस टी, मौजूदा कर ढांचे से किस तरह अलग है ?

जी एस टी (गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स), एक एकीकृत कर प्रणाली है, भारत की जटिल कर संरचना को ‘एक राष्ट्र-एक कर’ के दायरे में लाना जिसका ध्येय है। स्वतंत्रता के बाद से भारत में यह सबसे बड़ा कर सुधार है।

इसका क्या अर्थ है? इसका क्या असर होगा?

व्यापार की भौगोलिक सीमाएं हटाने और पूरे देश को ‘एक सामान्य बाज़ार स्थल’ में रूपांतरित करने के लिए जी एस टी प्रस्तावित किया गया है।

आइए, जी एस टी की बुनियादी बातें समझें, यह दोहरी अवधारणा वाली कर प्रणाली है। इस प्रणाली के तहत, लेनदेन की प्रकृति के आधार पर (राज्य के अंदर या अंतर्राज्यीय) कर केंद्र और राज्य दोनों सरकारों द्वारा लगाया, वसूला और साझा किया जाता है।

जी एस टी के कर घटक

जी एस टी के कर घटक

जहां हम अब जी एस टी के कर घटकों को जान गए हैं, वहीं आपके लिए यह जानना भी समान रूप से महत्त्वपूर्ण है कि मौजूदा समय में किस प्रकार के कर लगते हैं और जी एस टी के अंतर्गत वे किस तरह शामिल होंगे|

वर्तमान अप्रत्यक्ष कर ढांचा

वर्तमान अप्रत्यक्ष कर ढांचा

जी एस टी के अंतर्गत शामिल कर

जी एस टी के अंतर्गत शामिल कर

About the author

Pugal T & Yarab A

194 Comments

Comment Moderation Guidelines Share your thoughts
Comment Moderation Guidelines

Share your thoughts

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

© Tally Solutions Pvt. Ltd. All rights reserved - 2017