परिदृश्य जहाँ आप इनपुट टैक्स क्रेडिट प्राप्त नहीं कर सकते

Last updated on July 16th, 2017 at 10:58 pm

हमारे पिछले बलॉग में हमने सीखा जी एस टी इनपुट टैक्स क्रेडिट को प्राप्त करने की परिस्थितियाँ और परिदृश्य जिनमें हम इनकम टैक्स क्रेडिट का लाभ उठा सकते हैं । इस बलॉग में, हम चर्चा करेंगे उन परिदृश्यों की जहाँ आप इनपुट टैक्स क्रेडिट प्राप्त नहीं कर सकते ।

1. जिस तारीख से आप पंजीकरण के लिए उत्तरदायी हैं उससे 30 दिन के अंदर पंजीकरण के लिए आवेदन न करने पर

जिस तारीख को आप पंजीकरण के लिए उत्तरदायी बनते हैं यदि उसके 30 दिन के भीतर पंजीकरण के लिए आवेदन नहीं किया है, आप स्टॉक में इनपुटस एवं अद्धनिर्मित या तैयार माल/ वस्तुओं में निहित इनपुटस पर योग्य आई टी सी खो देंगे, उस तारीख से एक दिन पहले जब आप टैक्स भुगतान करने के लिए उतरदायी / देनदार है ।

2. इनपुट टैक्स क्रेड़िट प्राप्त करने के लिए तय समय की सीमा पार होने के बाद

आइ टी सी का लाभ निम्नलिखित तारीखों के अंदर प्राप्त किया जाना चाहिए –
• इनवॉइस की तारीख से 1 वर्ष के अंदर
या
• अगले वितीय वर्ष मे सितम्बर की रिटर्न फाइल करने की तारीख को ।
या
• वार्षिक रिटर्न फाइल करने की तारीख को ( नियत तारीख अगले वित्तीय वर्ष की 31 दिसम्बर हैं )

चलिये इसे उदाहरण द्वारा समझते हैं।

उदाहरण: राजेश अप्रैल प्रा. लि. पुरुषों के परिधान का विक्रेता है । वह 15 जुलाई 2017 को उत्पादक से रु 1,00,000 के परिधान खरीदता है । इस खरीद पर रु 18,000 (18%) जी एस टी का भुगतान किया गया है । उन्होंने अपना वर्ष ‘17 -18’ का वार्षिक रिटर्न, 31 जुलाई 2018 को फाइल किया है और सितम्बर 2018 का रिटर्न 20 अक्टूबर 2018 को फाइल किया है।

यहाँ, तीन तारीखें देखने वाली हैं –

इनवॉइस की तारीख से 1 वर्ष के अंदर 14 जुलाई 2018
अगले वितीय वर्ष मे सितम्बर की रिटर्न फाइल करने की तारीख 20 अक्टूबर 2018
वार्षिक रिटर्न फाइल करने की तारीख 31 जुलाई 2018

जैसे कि इनवॉइस की तारीख से 1 वर्ष, यानि 14 जुलाई 2018 इन सभी तारीखों मे शीघ्रतम है, इनवॉइस पर आई टी सी का लाभ 14 जुलाई 2018 से पुर्व लिया जाना चाहिए ।

3. वस्तुओं और / या सेवाओं पर जो कि कम्पोज़ीशन टैक्स भुगतान कर्ता द्वारा इनपुटस की तरह प्रयोग की जाती है

कम्पोज़ीशन टैक्स भुगतान कर्ता उन वस्तुओं और / या सेवाओं पर आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता जो इनपुटस की तरह प्रयोग की गयी है|

उदाहरणः लक्ष्मी किराना स्टोर्ज जी एस टी के अधीन कम्पोज़ीशन टैक्स भुगतान कर्ता के तौर पर पंजीकृत है । वह उत्पादक से रु 20,000 की किराना सामग्री (आइटमस) खरीदता है और उससे 12% पर रु 2,400 जी एस टी लिया जाता है । क्योकि लक्ष्मी किराना स्टोर्ज कम्पोज़ीशन टैक्स भुगतान कर्ता के तौर पर पंजीकृत है, वह खरीद पर रु 2,400 आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता । यह जी एस टी जिसका उन्होंने भुगतान किया है, उनकी सामग्री के मूल्य का हिस्सा बन जाएगा ।

4. उन वस्तुओं और / या सेवाओं पर जो निजी उपभोग के लिए प्रयोग की जाती हैं

उदाहरणः राजेश अप्रैल प्रा. लि. ने उत्पादक से रु 50,000 के परिधान खरीदे। उस खरीद पर रु 9,000 का जी एस टी का भुगतान किया । खरीदे हुए परिधानों में से, मालिक ने अपने नीजि प्रयोग के लिए रु 2,000 के परिधान ले लिए । बचे हुए परिधान ग्राहको को बेच दिए गए । यहाँ खरीद पर, जो आइ टी सी प्राप्त किया जा सकता है वह है रु 8,640 (48,000 * 18%)।

5. उन वस्तुओं और / या सेवाओं पर जो कि कर मुक्त सप्लाई बनाने के लिए प्रयोग की गई हैं।

उन वस्तुओं और / या सेवाओं पर जो कि कर मुक्त सप्लाई बनाने के लिए प्रयोग की गई हैं और उस सप्लाई पर जहाँ रिसीवर रिवर्स चार्ट बेसिस पर कर का भुकतान करता है, वहाँ आई टी सी प्राप्त नहीं किया जा सकता ।

उदाहरणः आप एक कर मुक्त सामान का उत्पादन करते हैं । आप 4 सितम्बर 2017 को निम्नलिखित इनपुट्स को खरीदते हैं (जो कि कर मुक्त सामान के उत्पादन में प्रयोग किया जाता है )

आवक की आपूर्ति – 4.9.2017
इनपुटस मूल्य (रु) इनपुट्स पर 18% पर अदा किया जी एस टी (रु)
कच्चा माल ए 3,00,000 54,000
कच्चा माल बी 30,000  5,400
कुल 3,30,000 59,400

यहाँ, आप रु 59,400 आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकते क्योकि ये इनपुट्स कर मुक्त सामान के उत्पादन के लिए प्रयोग किए गए हैं।

6. उन सेवाओं पर, जिनका इनवाईस की तारीख से तीन माह के अंदर भुगतान नहीं किया गया हैं ।

यदि सेवा को प्राप्त करने वाला, इनवॉइस की तारीख से 3 महीने के अंदर देय कर (टैक्स) और सेवा की रसीद का भुगतान नहीं करता है, प्राप्त किया गया आई टी सी देय ब्याज के साथ प्राप्तकर्ता के दायित्व (लाइबीलिटी) में जोड़ दिया जायगा ।

उदाहरणः आपने चार्टरड अकाउंटैंट से लेखा परीक्षा और परामर्श के लिए सेवाएँ ली हैं । सेवा का मूल्य रु 50,000 है और उस पर 18% पर रु 9,000 जी एस टी चार्ज किया गया है । यदि आप इनवॉइस की तारीख से तीन महीने के अंदर रु 59,000 का भुगतान नहीं करते, तो आपके द्वारा प्राप्त किया गया रु 9,000 आई टी सी देय ब्याज के साथ आपके दायित्व मे जोड़ दिया जाएगा ।

7. उन वस्तुओं पर जो खो गईं, चोरी हो गई, नष्ट हो गईं, भट्टे खाते मे डाली गईं या उपहार के तौर पर निपटाई गईं या मुफ्त नमुने

उदाहरणः आप इलेक्ट्रानिक सामान के विक्रेता हैं । 1 नवम्बर, 2017 को, आप उत्पादक से रु 25,000 प्रत्येक पर 20 कमप्यूटर खरीदते हैं । (18% पर) रु 90,000 जी एस टी चार्ज किया गया है । 2 नवम्बर 2017 को, एक कम्पयूटर पूरी तरह से नष्ट हो जाता है और बिलकुल भी प्रयोग नहीं किया जा सकता । आप उस कम्पयूटर पर रु 4,500 आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकते ।

8. मोटर गाड़ी और अन्य वाहनों पर

मोटर गाड़ी और अन्य वाहनों पर आई टी सी की अनुमति नहीं है जब तक वे:

• आगे की आपूर्ति के लिए नहीं है या
• यात्रियों या सामान को ढोने के लिए प्रयोग नहीं हुए है या
• ऐसे वाहन ड्राइविंग का प्रशिक्षण देने, उड़ाने या मार्गनिर्देश के लिए प्रयोग नहीं हुए है

उदाहरणः एक गाड़ी उत्पादक, सूपर कार्ज़ प्रा. लि. फैक्टरी के अंदर ही कर्मचारियों को ढोने के लिए एक टैम्पो ट्रैवलर खरीदता है । सूपर कार्ज़ प्रा. लि., टैम्पो ट्रैवलर पर आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता क्योकि वह ऊपर लिखी किसी भी गतिविघियों मे प्रयोग नहीं हुआ है ।

चलिए एक अन्य परिदृश्य पर नज़र डालते हैं । एक यात्रा संचालक, मुकेश ट्रैवल्स पर्यटकों के पैकेज टुअर (यात्रा) के दौरान उन्हें ढोने के लिए एक टैम्पो ट्रेवलर खरीदता है । यहाँ, मुकेश ट्रेवल्स टैम्पो ट्रैवलर पर आई टी सी प्राप्त कर सकता है, क्योकि उसका प्रयोग यात्रियों को ढोने के लिए हुआ है – जो कि मुकेश ट्रैवल्स की कारोबारी गतिविघि है ।

9. खाघ एवं पेय, बाह्य केटरिंग (खानपान), सौंदर्य उपचार, स्वास्थ्य सेवाएँ, कॉस्मेटिक एवं प्लास्टिक सर्जरी

खाघ एवं पेय, बाह्य केटरिंग (खानपान), सौंदर्य उपचार, स्वास्थ्य सेवाएँ, कॉस्मेटिक एवं प्लास्टिक सर्जरी पर तब तक आई टी सी प्राप्त नहीं किया जा सकता जब तक वे उसी श्रेणी का सामान या सेवाओं की बाह्य आपूर्ति के लिए प्रयोग न किया गया हो
उदाहरण 1: सूपर कार्ज़ प्रा. लि अपने कर्मचारियों के लिए दिवाली उत्सव मनाने के लिए, राकेश केटर्रस से सेवाएँ लेता है । सूपर कार्ज़ आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता, क्योंकि केटरिंग सर्विस प्रदान करना उनकी कारोबारी गतिविधि नहीं है ।

उदाहरण 2: सूपर कार्ज़ प्रा. लि. को केटरिंग सर्विस प्रदान करने हेतु राकेश केटर्रस, शामियाना प्रदान कर्ता की सेवाएँ लेता है । यहाँ, राकेश केटर्रस शामियाना सेवाओं आई टी सी प्राप्त कर सकता है, क्योंकि उनका प्रयोग उसी श्रेणी की सेवाओं की बाह्य आपूर्ति के लिए किया गया है ।

10. क्लब एवं स्वास्थ्य और दुरुस्ती केन्द्रों की सदस्यता पर, किराए पर कैब (टैक्सी) सेवा पर, कर्मचारियों के लिए जीवन और स्वास्थ्य बीमा पर, अधिसूचित सेवाओं के इलावा जो कि कर्मचारियों को प्रदान करना अनिवार्य है ।

उदाहरणः एक यात्रा संचालक, मुकेश ट्रैवल्स अपने कर्मचारियों के प्रयोग हेतु, प्रथम फिटनेस सेनटर की वार्षिक सदस्यता लेता है । यहाँ, मुकेश ट्रैवल्स सदस्यता चार्जिज़ पर अदा की गई जी एस टी पर आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता ।

11. छुट्टी पर गए कर्मचारियों के यात्रा लाभ पर, जैसे छुट्टी या घरेलु यात्रा रियायत पर

उदाहरणः सूपर कार्ज़ प्रा. लि. अपने वरिष्ठ कर्मचारियों को एल टी ए (छुट्टी यात्रा भत्ता) के हिस्से के रुप मे यात्रा खर्च अदा करता है । सूपर कार्ज़ प्रा. लि. अदा किए हुए यात्रा भाड़े के जी एस टी भाग पर आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता ।

12. पूँजीगत वस्तुओं के टैक्स अंश पर, यदि अवमूल्यन (डेप्रिसिएशन) का दावा टैक्स अंश पर किया गया है ।

पूँजीगत वस्तुओं के टैक्स अंश पर आई टी सी प्राप्त नहीं किया जा सकता, यदि इनकम टैक्स रिटर्न में अवमूल्यन (डेप्रिसिएशन) का दावा टैक्स अंश पर किया गया है ।

उदाहरणः गाड़ियो के उत्पादन के लिए, सुपर कार्ज़ प्रा. लि. रु 50,00,000 की मशीनरी खरीदता है । मशीनरी पर अदा किया गया जी एस टी रु 9,00,000 है । सूपर कार्ज़ प्रा. लि. आयकर के तहत रु 59,00,000 अवमूल्यन का दावा करते है, जो कि जी एस टी अंश सहित है । इस मामले में, सूपर कार्ज़ प्रा. लि. मशीनरी पर रु 9,00,000 आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता है ।

इनपुट टैक्स क्रेडिट व्यवहार मे लाना जो कि विशिष्ट परिदृश्य में पहले ही प्राप्त किया जा चुका हैं ।

जब एक नियमित / स्थाई विक्रेता, जो आई टी सी प्राप्त कर चुका है, कम्पोज़िशन स्कीम में बदलता है ।

जब एक नियमित/स्थायी विक्रेता जिसने आइटीसी प्राप्त कर ली हैं, वे कॉंपोज़िशन स्कीम में जब आते हैं, तब उन्हे कम्पोज़ीशन स्कीम मे बदलने से एक दिन पहले प्राप्त किया गया आईटीसी वापस लौटा देना चाहिए, जो उन्होने स्टॉक के साधारण इनपुट, अद्धनिर्मित तथा तैयार माल के इनपुट्स, और पूंजीगत माल (निर्धारित प्रतिशत अंको से कम करके) पर प्राप्त किया था ।

उदाहरणः आप नियमित / स्थाई विक्रेता के तौर पर पंजीकृत हैं । आपका टर्न ओवर रु 50 लाख से ऊपर नहीं हुआ है, तो 1 सितम्बर 2017 को आप कम्पोज़ीशन स्कीम में बदल जाते हैं । 31 अगस्त 2017 को, आपके पास स्टॉक में निम्नलिखित इनपुट्स हैं जिन पर आई टी सी पहले ही प्राप्त किया जा चुका है –

समापन स्टॉक – 31.8.2017
इनपुट्स मूल्य (रु) 18% पर अदा किया गया जी एस जी (रु)
कच्चा माल ए 1,50,000 27,000
कच्चा माल बी 20,000   3,600
कुल 1,70,000 30,600

कम्पोज़ीशन स्कीम में बदलने पर, आपको रु 30,600 आई टी सी वापस लौटाना पड़ेगा जो आपने स्टॉक मै इनपुट्स पर प्राप्त किया था ।

जब कराधीन वस्तुएँ और / या सेवाएँ कर मुक्त हो जाती हैं

व्यक्ति द्वारा सप्लाई की जाने वाली कराधीन वस्तुएँ और / या सेवाएँ जब कर मुक्त होने के तौर पर अधिसूचित की जाती हैं, तब व्यक्ति को आई टी सी वापस लौटा देना चहिए जो उसने स्टॉक के इनपुट, अर्ध-पूर्ण अवस्था में इनपुट, पूर्ण वस्तुओं (निर्धारित प्रतिशत अंक से कम की गई ) पर प्राप्त किया था ।
उदाहरणः आप एक कराधीन वस्तु का उत्पादन करते हैं, जो कि एक अधिसूचना के तहत 15 सितम्बर 2017 से कर मुक्त हो रही है । 14 सितम्बर 2017 को आपके पास सटॉक में निम्नलिखित इनपुट्स हैं जिन पर आई टी सी पहले ही प्राप्त किया जा चुका है –

समापन स्टॉक – 14.9.2017
इनपुट्स मूल्य (रु) 18% पर अदा किया गया जी एस जी (रु)
कच्चा माल 1,00,000 18,000
अर्ध-पूर्ण वस्तुओं में कच्चा माल इनपुट्स 50,000  9,000
कुल 1,50,000 27,000

स्टॉक में इनपुट्स पर प्राप्त किया गया आई टी सी जो कि रु 27,000 है, वापस लौटाना पड़ेगा ।

नोट : जी एस टी दरें अभी तय नहीं की गईं हैं और उदाहरणों में उल्लिखित दरें केवल दृष्टान्त के लिए है ।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

About the author

Pugal T & Anisha K Jose

34 Comments

    • Input credit of CVD and SAD paid will be available for an importer. The same can be utilized to set-off the tax payable.

  • I have a questions on imported stock. Just say GST is getting implemented on 01 Sept 2017. I am holding stock of items which was imported before 01 Sept 2017, Can i claim input credit for the imported items.

    And as far as I know all imports IGST will be applied and that can be claimed back while selling the products. Is it correct or not

  • If an assessee had input credit of VAT over the last 3-4 years and he has not received a refund for it, can it be assumed that the entire refund will be made to him upon/before switching to Gst?

    • Under GST, refund of unutilized ITC will be given only in the case of exports, zero rated supplies or in cases where the credit has accumulated on account of rate of tax on inputs being higher than the rate of tax on output supplies.

    • Mr. Ankur is the ITC of VAT is being carried forwarded in the VAT Return of your state???

      Also refund in GST is not possible..
      It is advisable to take as much refund u get from VAT dept before GST roll out…

  • we are a trader and imported computers and paid 18% GST( custom duty) and taken credit of the same on say 10 Aug 2017. i’m not able to sell this item till 10 Aug 2018. can i need to refund the GST credit . please help me to clear this doubt

    • On import, you can claim credit of IGST paid. This credit can be utilised to set-off your liability. The same must be utilised before the date of filing of annual return for the year or the date of filing of return for September of the next Financial year, whichever is earlier.

  • Kindly refer my earlier query regarding time limit for availing Input Tax Credit. In this regard, it is once again requested to examine the provisions of the Revised Draft GST Law, particularly, sub-section (4) of Section 16 and sub-section (5) of Section 18.

    From the above, it is understood that the time limit of one year from the date of invoice applies only on cases covered under sub-section (1), (2), (3) and (4) of Section 18. 2. This limit should not be applied on a case covered under Section 16.

    The example given at Sl. No. 2 of the above explanation, as I understand, is covered under Section 16 and not under Section 18.

    May please clarify the position.

    Regards.

  • Any updation as per the GST related concern and new norms for the same is being welcomed from your end.

  • Well explained. Please keep sending such detailed mails for the benefit of Tally users in particular and for the people concerned in general.

  • Dear Sir,
    Thank you for your support towards GST !

    I want to know the impact on Exports & Imports.

  • in gst branch transfer( stock transfer) NIL than how treatment made in branches sale and how adjest itc in branches.

  • Really impressive way
    of explaining the gst intricacies. I thank the tally team. its a service to the nation & business community.

  • @ Jagannath
    As per 16(4) of model GST law which starts with Non-obstante clause which renders 16(1) is non applicable for ineligible credits.
    Hence, tax paid on Inputs or inputs services shall not be availed even it is for business purpose.

    Regards
    Yashwanth

  • The revised model GST law states that the “capital goods” means goods, the value of which is capitalised in the
    books of accounts of the person claiming the credit and which are used or intended to be used in the course or furtherance of business. As the motor vehicles are used for furtherance of business (professionals using the vehicle for travel), Input Tax Credit should be available. Let us debate on the same

  • IF CENTRAL PURCHASE IS MADE AND THE SAME FINISHED GOODS ARE EXPORTED OUTSIDE THE COUNTRY.CAN ITC CREDIT OF GST CAN BE AVAILED BY ASSESSEE.

  • point no. 5 relates to manufacturing of exempt goods.However, there would be no exempt category in gst, some goods might be put under 0% slab. In that case, is it implied that manufacturer producing 0% goods would not be eligible to get refund of his input tax credit (as he cant adjust the same with output tax), and ITC would add to the cost of production?

    • Input credit will not be available on exempt supplies. Input credit will be available on zero rated supplies.

  • Very very good explanation ……………….
    everybody can understand in very simple manner……

© Tally Solutions Pvt. Ltd. All rights reserved - 2017