हमारे पिछले बलॉग में हमने सीखा जी एस टी इनपुट टैक्स क्रेडिट को प्राप्त करने की परिस्थितियाँ और परिदृश्य जिनमें हम इनकम टैक्स क्रेडिट का लाभ उठा सकते हैं । इस बलॉग में, हम चर्चा करेंगे उन परिदृश्यों की जहाँ आप इनपुट टैक्स क्रेडिट प्राप्त नहीं कर सकते ।

1. जिस तारीख से आप पंजीकरण के लिए उत्तरदायी हैं उससे 30 दिन के अंदर पंजीकरण के लिए आवेदन न करने पर

जिस तारीख को आप पंजीकरण के लिए उत्तरदायी बनते हैं यदि उसके 30 दिन के भीतर पंजीकरण के लिए आवेदन नहीं किया है, आप स्टॉक में इनपुटस एवं अद्धनिर्मित या तैयार माल/ वस्तुओं में निहित इनपुटस पर योग्य आई टी सी खो देंगे, उस तारीख से एक दिन पहले जब आप टैक्स भुगतान करने के लिए उतरदायी / देनदार है ।

2. इनपुट टैक्स क्रेड़िट प्राप्त करने के लिए तय समय की सीमा पार होने के बाद

आइ टी सी का लाभ निम्नलिखित तारीखों के अंदर प्राप्त किया जाना चाहिए –
• इनवॉइस की तारीख से 1 वर्ष के अंदर
या
• अगले वितीय वर्ष मे सितम्बर की रिटर्न फाइल करने की तारीख को ।
या
• वार्षिक रिटर्न फाइल करने की तारीख को ( नियत तारीख अगले वित्तीय वर्ष की 31 दिसम्बर हैं )

चलिये इसे उदाहरण द्वारा समझते हैं।

उदाहरण: राजेश अप्रैल प्रा. लि. पुरुषों के परिधान का विक्रेता है । वह 15 जुलाई 2017 को उत्पादक से रु 1,00,000 के परिधान खरीदता है । इस खरीद पर रु 18,000 (18%) जी एस टी का भुगतान किया गया है । उन्होंने अपना वर्ष ‘17 -18’ का वार्षिक रिटर्न, 31 जुलाई 2018 को फाइल किया है और सितम्बर 2018 का रिटर्न 20 अक्टूबर 2018 को फाइल किया है।

यहाँ, तीन तारीखें देखने वाली हैं –

इनवॉइस की तारीख से 1 वर्ष के अंदर14 जुलाई 2018
अगले वितीय वर्ष मे सितम्बर की रिटर्न फाइल करने की तारीख20 अक्टूबर 2018
वार्षिक रिटर्न फाइल करने की तारीख31 जुलाई 2018

जैसे कि इनवॉइस की तारीख से 1 वर्ष, यानि 14 जुलाई 2018 इन सभी तारीखों मे शीघ्रतम है, इनवॉइस पर आई टी सी का लाभ 14 जुलाई 2018 से पुर्व लिया जाना चाहिए ।

3. वस्तुओं और / या सेवाओं पर जो कि कम्पोज़ीशन टैक्स भुगतान कर्ता द्वारा इनपुटस की तरह प्रयोग की जाती है

कम्पोज़ीशन टैक्स भुगतान कर्ता उन वस्तुओं और / या सेवाओं पर आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता जो इनपुटस की तरह प्रयोग की गयी है|

उदाहरणः लक्ष्मी किराना स्टोर्ज जी एस टी के अधीन कम्पोज़ीशन टैक्स भुगतान कर्ता के तौर पर पंजीकृत है । वह उत्पादक से रु 20,000 की किराना सामग्री (आइटमस) खरीदता है और उससे 12% पर रु 2,400 जी एस टी लिया जाता है । क्योकि लक्ष्मी किराना स्टोर्ज कम्पोज़ीशन टैक्स भुगतान कर्ता के तौर पर पंजीकृत है, वह खरीद पर रु 2,400 आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता । यह जी एस टी जिसका उन्होंने भुगतान किया है, उनकी सामग्री के मूल्य का हिस्सा बन जाएगा ।

4. उन वस्तुओं और / या सेवाओं पर जो निजी उपभोग के लिए प्रयोग की जाती हैं

उदाहरणः राजेश अप्रैल प्रा. लि. ने उत्पादक से रु 50,000 के परिधान खरीदे। उस खरीद पर रु 9,000 का जी एस टी का भुगतान किया । खरीदे हुए परिधानों में से, मालिक ने अपने नीजि प्रयोग के लिए रु 2,000 के परिधान ले लिए । बचे हुए परिधान ग्राहको को बेच दिए गए । यहाँ खरीद पर, जो आइ टी सी प्राप्त किया जा सकता है वह है रु 8,640 (48,000 * 18%)।

5. उन वस्तुओं और / या सेवाओं पर जो कि कर मुक्त सप्लाई बनाने के लिए प्रयोग की गई हैं।

उन वस्तुओं और / या सेवाओं पर जो कि कर मुक्त सप्लाई बनाने के लिए प्रयोग की गई हैं और उस सप्लाई पर जहाँ रिसीवर रिवर्स चार्ट बेसिस पर कर का भुकतान करता है, वहाँ आई टी सी प्राप्त नहीं किया जा सकता ।

उदाहरणः आप एक कर मुक्त सामान का उत्पादन करते हैं । आप 4 सितम्बर 2017 को निम्नलिखित इनपुट्स को खरीदते हैं (जो कि कर मुक्त सामान के उत्पादन में प्रयोग किया जाता है )

आवक की आपूर्ति – 4.9.2017
इनपुटसमूल्य (रु)इनपुट्स पर 18% पर अदा किया जी एस टी (रु)
कच्चा माल ए3,00,00054,000
कच्चा माल बी30,000 5,400
कुल3,30,00059,400

यहाँ, आप रु 59,400 आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकते क्योकि ये इनपुट्स कर मुक्त सामान के उत्पादन के लिए प्रयोग किए गए हैं।

6. उन सेवाओं पर, जिनका इनवाईस की तारीख से तीन माह के अंदर भुगतान नहीं किया गया हैं ।

यदि सेवा को प्राप्त करने वाला, इनवॉइस की तारीख से 3 महीने के अंदर देय कर (टैक्स) और सेवा की रसीद का भुगतान नहीं करता है, प्राप्त किया गया आई टी सी देय ब्याज के साथ प्राप्तकर्ता के दायित्व (लाइबीलिटी) में जोड़ दिया जायगा ।

उदाहरणः आपने चार्टरड अकाउंटैंट से लेखा परीक्षा और परामर्श के लिए सेवाएँ ली हैं । सेवा का मूल्य रु 50,000 है और उस पर 18% पर रु 9,000 जी एस टी चार्ज किया गया है । यदि आप इनवॉइस की तारीख से तीन महीने के अंदर रु 59,000 का भुगतान नहीं करते, तो आपके द्वारा प्राप्त किया गया रु 9,000 आई टी सी देय ब्याज के साथ आपके दायित्व मे जोड़ दिया जाएगा ।

7. उन वस्तुओं पर जो खो गईं, चोरी हो गई, नष्ट हो गईं, भट्टे खाते मे डाली गईं या उपहार के तौर पर निपटाई गईं या मुफ्त नमुने

उदाहरणः आप इलेक्ट्रानिक सामान के विक्रेता हैं । 1 नवम्बर, 2017 को, आप उत्पादक से रु 25,000 प्रत्येक पर 20 कमप्यूटर खरीदते हैं । (18% पर) रु 90,000 जी एस टी चार्ज किया गया है । 2 नवम्बर 2017 को, एक कम्पयूटर पूरी तरह से नष्ट हो जाता है और बिलकुल भी प्रयोग नहीं किया जा सकता । आप उस कम्पयूटर पर रु 4,500 आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकते ।

8. मोटर गाड़ी और अन्य वाहनों पर

मोटर गाड़ी और अन्य वाहनों पर आई टी सी की अनुमति नहीं है जब तक वे:

• आगे की आपूर्ति के लिए नहीं है या
• यात्रियों या सामान को ढोने के लिए प्रयोग नहीं हुए है या
• ऐसे वाहन ड्राइविंग का प्रशिक्षण देने, उड़ाने या मार्गनिर्देश के लिए प्रयोग नहीं हुए है

उदाहरणः एक गाड़ी उत्पादक, सूपर कार्ज़ प्रा. लि. फैक्टरी के अंदर ही कर्मचारियों को ढोने के लिए एक टैम्पो ट्रैवलर खरीदता है । सूपर कार्ज़ प्रा. लि., टैम्पो ट्रैवलर पर आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता क्योकि वह ऊपर लिखी किसी भी गतिविघियों मे प्रयोग नहीं हुआ है ।

चलिए एक अन्य परिदृश्य पर नज़र डालते हैं । एक यात्रा संचालक, मुकेश ट्रैवल्स पर्यटकों के पैकेज टुअर (यात्रा) के दौरान उन्हें ढोने के लिए एक टैम्पो ट्रेवलर खरीदता है । यहाँ, मुकेश ट्रेवल्स टैम्पो ट्रैवलर पर आई टी सी प्राप्त कर सकता है, क्योकि उसका प्रयोग यात्रियों को ढोने के लिए हुआ है – जो कि मुकेश ट्रैवल्स की कारोबारी गतिविघि है ।

9. खाघ एवं पेय, बाह्य केटरिंग (खानपान), सौंदर्य उपचार, स्वास्थ्य सेवाएँ, कॉस्मेटिक एवं प्लास्टिक सर्जरी

खाघ एवं पेय, बाह्य केटरिंग (खानपान), सौंदर्य उपचार, स्वास्थ्य सेवाएँ, कॉस्मेटिक एवं प्लास्टिक सर्जरी पर तब तक आई टी सी प्राप्त नहीं किया जा सकता जब तक वे उसी श्रेणी का सामान या सेवाओं की बाह्य आपूर्ति के लिए प्रयोग न किया गया हो
उदाहरण 1: सूपर कार्ज़ प्रा. लि अपने कर्मचारियों के लिए दिवाली उत्सव मनाने के लिए, राकेश केटर्रस से सेवाएँ लेता है । सूपर कार्ज़ आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता, क्योंकि केटरिंग सर्विस प्रदान करना उनकी कारोबारी गतिविधि नहीं है ।

उदाहरण 2: सूपर कार्ज़ प्रा. लि. को केटरिंग सर्विस प्रदान करने हेतु राकेश केटर्रस, शामियाना प्रदान कर्ता की सेवाएँ लेता है । यहाँ, राकेश केटर्रस शामियाना सेवाओं आई टी सी प्राप्त कर सकता है, क्योंकि उनका प्रयोग उसी श्रेणी की सेवाओं की बाह्य आपूर्ति के लिए किया गया है ।

10. क्लब एवं स्वास्थ्य और दुरुस्ती केन्द्रों की सदस्यता पर, किराए पर कैब (टैक्सी) सेवा पर, कर्मचारियों के लिए जीवन और स्वास्थ्य बीमा पर, अधिसूचित सेवाओं के इलावा जो कि कर्मचारियों को प्रदान करना अनिवार्य है ।

उदाहरणः एक यात्रा संचालक, मुकेश ट्रैवल्स अपने कर्मचारियों के प्रयोग हेतु, प्रथम फिटनेस सेनटर की वार्षिक सदस्यता लेता है । यहाँ, मुकेश ट्रैवल्स सदस्यता चार्जिज़ पर अदा की गई जी एस टी पर आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता ।

11. छुट्टी पर गए कर्मचारियों के यात्रा लाभ पर, जैसे छुट्टी या घरेलु यात्रा रियायत पर

उदाहरणः सूपर कार्ज़ प्रा. लि. अपने वरिष्ठ कर्मचारियों को एल टी ए (छुट्टी यात्रा भत्ता) के हिस्से के रुप मे यात्रा खर्च अदा करता है । सूपर कार्ज़ प्रा. लि. अदा किए हुए यात्रा भाड़े के जी एस टी भाग पर आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता ।

12. पूँजीगत वस्तुओं के टैक्स अंश पर, यदि अवमूल्यन (डेप्रिसिएशन) का दावा टैक्स अंश पर किया गया है ।

पूँजीगत वस्तुओं के टैक्स अंश पर आई टी सी प्राप्त नहीं किया जा सकता, यदि इनकम टैक्स रिटर्न में अवमूल्यन (डेप्रिसिएशन) का दावा टैक्स अंश पर किया गया है ।

उदाहरणः गाड़ियो के उत्पादन के लिए, सुपर कार्ज़ प्रा. लि. रु 50,00,000 की मशीनरी खरीदता है । मशीनरी पर अदा किया गया जी एस टी रु 9,00,000 है । सूपर कार्ज़ प्रा. लि. आयकर के तहत रु 59,00,000 अवमूल्यन का दावा करते है, जो कि जी एस टी अंश सहित है । इस मामले में, सूपर कार्ज़ प्रा. लि. मशीनरी पर रु 9,00,000 आई टी सी प्राप्त नहीं कर सकता है ।

इनपुट टैक्स क्रेडिट व्यवहार मे लाना जो कि विशिष्ट परिदृश्य में पहले ही प्राप्त किया जा चुका हैं ।

जब एक नियमित / स्थाई विक्रेता, जो आई टी सी प्राप्त कर चुका है, कम्पोज़िशन स्कीम में बदलता है ।

जब एक नियमित/स्थायी विक्रेता जिसने आइटीसी प्राप्त कर ली हैं, वे कॉंपोज़िशन स्कीम में जब आते हैं, तब उन्हे कम्पोज़ीशन स्कीम मे बदलने से एक दिन पहले प्राप्त किया गया आईटीसी वापस लौटा देना चाहिए, जो उन्होने स्टॉक के साधारण इनपुट, अद्धनिर्मित तथा तैयार माल के इनपुट्स, और पूंजीगत माल (निर्धारित प्रतिशत अंको से कम करके) पर प्राप्त किया था ।

उदाहरणः आप नियमित / स्थाई विक्रेता के तौर पर पंजीकृत हैं । आपका टर्न ओवर रु 50 लाख से ऊपर नहीं हुआ है, तो 1 सितम्बर 2017 को आप कम्पोज़ीशन स्कीम में बदल जाते हैं । 31 अगस्त 2017 को, आपके पास स्टॉक में निम्नलिखित इनपुट्स हैं जिन पर आई टी सी पहले ही प्राप्त किया जा चुका है –

समापन स्टॉक – 31.8.2017
इनपुट्समूल्य (रु)18% पर अदा किया गया जी एस जी (रु)
कच्चा माल ए1,50,00027,000
कच्चा माल बी20,000  3,600
कुल1,70,00030,600

कम्पोज़ीशन स्कीम में बदलने पर, आपको रु 30,600 आई टी सी वापस लौटाना पड़ेगा जो आपने स्टॉक मै इनपुट्स पर प्राप्त किया था ।

जब कराधीन वस्तुएँ और / या सेवाएँ कर मुक्त हो जाती हैं

व्यक्ति द्वारा सप्लाई की जाने वाली कराधीन वस्तुएँ और / या सेवाएँ जब कर मुक्त होने के तौर पर अधिसूचित की जाती हैं, तब व्यक्ति को आई टी सी वापस लौटा देना चहिए जो उसने स्टॉक के इनपुट, अर्ध-पूर्ण अवस्था में इनपुट, पूर्ण वस्तुओं (निर्धारित प्रतिशत अंक से कम की गई ) पर प्राप्त किया था ।
उदाहरणः आप एक कराधीन वस्तु का उत्पादन करते हैं, जो कि एक अधिसूचना के तहत 15 सितम्बर 2017 से कर मुक्त हो रही है । 14 सितम्बर 2017 को आपके पास सटॉक में निम्नलिखित इनपुट्स हैं जिन पर आई टी सी पहले ही प्राप्त किया जा चुका है –

समापन स्टॉक – 14.9.2017
इनपुट्समूल्य (रु)18% पर अदा किया गया जी एस जी (रु)
कच्चा माल1,00,00018,000
अर्ध-पूर्ण वस्तुओं में कच्चा माल इनपुट्स50,000 9,000
कुल1,50,00027,000

स्टॉक में इनपुट्स पर प्राप्त किया गया आई टी सी जो कि रु 27,000 है, वापस लौटाना पड़ेगा ।

नोट : जी एस टी दरें अभी तय नहीं की गईं हैं और उदाहरणों में उल्लिखित दरें केवल दृष्टान्त के लिए है ।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

51,684 total views, 32 views today