परिचय

GST व्यवस्था पिछली अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था से कई तरीकों से बहुत अलग है। हालांकि सबसे बड़ा अंतर अनुपालन की प्रकृति में है, जो एक बड़ा बदलाव है। पिछली व्यवस्था में, सरकार की प्रणाली पर रिटर्न भरने से पहले, अपने चालानों में सामंजस्य करना खरीदार या आपूर्तिकर्ता के लिए अनिवार्य नहीं था। GST के अंतर्गत, एक खरीदार को आवधिक रिटर्न दाखिल करने से पहले इनपुट टैक्स क्रेडिट के लिए योग्य होने के लिए आवक आपूर्ति चालानों को अपने विक्रेता की जावक आपूर्ति के साथ समन्वयित करने की आवश्यकता होगी। अगर कोई क्रेता आज, अपने आपूर्तिकर्ता के साथ मेल नहीं किए बिना कर रिटर्न भरता है, तो वह इनपुट कर क्रेडिट (ITC) के नुकसान का जोखिम उठाएगा। यह देखते हुए कि व्यापारिक कर देनदारियों का भुगतान करने के लिए आईटीसी ITC बहुत महत्वपूर्ण है, GST युग में गैर-अनुपालन का व्यवसाय के नकदी प्रवाह पर सीधा असर होगा।

हालाँकि कार्य काफी महत्वपूर्ण है, पर यह जटिल है – क्यूंकि एक व्यापार ने कई आपूर्तिकर्ताओं और ग्राहकों के साथ कई लेनदेन किए हैं। क्या कोई तरीका है, जिससे व्यवसाय इस अनुभव को खुद के लिए थोड़ा आसान बना सके? इस ब्लॉग में, हम GST रिटर्न भरने को आसान बनाने के लिए किये जा सकने वाले 5 चरणों को समझने की कोशिश करेंगे।

GST रिटर्न भरने की प्रक्रिया

इससे पहले कि हम रिटर्न भरने की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए चरणों का मूल्यांकन कर सकें, हम एक ही शॉट में प्रक्रिया को देखें:

प्रपत्र प्रकारआवर्त्तीभुगतान तिथिप्रस्तुत करने के लिए विवरण
प्रपत्र GSTR 1मासिकअगले महीने की 10 तारीखकर योग्य वस्तुओं और/या प्रभावित सेवाओं की जावक आपूर्ति का ब्योरा दें
प्रपत्र GSTR 2Aमासिकअगले महीने की 11 तारीखआपूर्तिकर्ता द्वारा प्रस्तुत प्रपत्र GSTR 1 के आधार पर प्राप्तकर्ता को उपलब्ध कराई गई आवक आपूर्ति का स्वत: दर्ज विवरण
प्रपत्र GSTR 2मासिकअगले महीने की 15 तारीखइनपुट कर क्रेडिट का दावा करने के लिए कर योग्य वस्तुओं और/या सेवाओं की आवक आपूर्ति का विवरण। प्रपत्र GSTR 2A में जोड़ (दावे) या संशोधन प्रपत्र GSTR 2A में जमा किया जाना चाहिए।
प्रपत्र GSTR 1Aमासिकअगले महीने की 17 तारीखप्रपत्र GSTR 2 में प्राप्तकर्ता द्वारा जोड़े गए, सही किये गए या मिटाए गए जावक आपूर्ति के विवरण को आपूर्तिकर्ता के लिए उपलब्ध कराया जाएगा।
प्रपत्र GSTR 3मासिकअगले महीने की 20 तारीखकर की रकम के भुगतान के साथ जावक आपूर्ति और आवक आपूर्ति के विवरण को अंतिम रूप देने के आधार पर मासिक रिटर्न
प्रपत्र GST MIS-1मासिकइनपुट कर क्रेडिट दावे की स्वीकृति, विसंगति या दोहराव का संचार
प्रपत्र GSTR 3Aडिफ़ॉल्ट से 15 दिनएक पंजीकृत कर योग्य व्यक्ति को नोटिस जो रिटर्न प्रस्तुत करने में विफल रहता है
प्रपत्र GSTR 9वार्षिकअगले वित्तीय वर्ष की 31 दिसंबरवार्षिक रिटर्न – प्राप्त ITC और भुगतान किये GST का विवरण, जिसमें स्थानीय, अंतरराज्यीय और आयात/निर्यात शामिल हैं।

GST रिटर्न भरना – इसे आसान कैसे बनाएं?

अब, हमने GST रिटर्न ,भरने के लिए मासिक चक्र व्यवसायों पर दोबारा गौर किया है, तो यह निष्कर्ष निकालना ठीक है, कि मैन्युअल रूप से इस सब का प्रबंधन करना असंभव है। अकेले मैनुअल, यहां तक कि उन व्यवसायों को भी, जो अपना बहीखाता एक्सेल शीट्स पर रखते हैं, को अपने ITC की सुरक्षा के लिए उन अनुपालन के उच्च मानकों को बनाए रखना मुश्किल होगा जो उनके लिए आवश्यक हैं।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि GST रिटर्न भरना आसान है, हम निम्नलिखित 5 चरणों का सुझाव देते हैं:

  • चरण 1: अपने खातों को कम्प्यूटरीकृत करना – सबसे पहला कदम, अपने व्यवसाय को कम्प्यूटरीकृत करने , का महत्वपूर्ण निर्णय लेना है, अगर आपने पहले से नहीं किया है। अपनी बिलिंग और लेखांकन को कम्प्यूटरीकृत करना यह सुनिश्चित करेगा कि आपके रिकॉर्ड ठीक से बनाए गए हैं, जो न केवल रिटर्न भरना आसान करेगा, बल्कि किसी भी तरह की त्रुटियों की जल्दी पहचान भी करेगा।
  • चरण 2: अपने GST अनुपालन के लिए सही सॉफ्टवेयर चुनें – एक बार जब आप अपने व्यवसाय के लिए कंप्यूटर ले लेते हैं, अगला कदम अपने GST अनुपालन के लिए सही सॉफ्टवेयर चुनना होगा। सैद्धांतिक रूप से GSTN द्वारा उपलब्ध कराई गई उपयोगिताओं का उपयोग करके GST पोर्टल पर सीधे रिटर्न जमा करना संभव है। यदि आपके पास बड़ी संख्या में लेनदेन और ग्राहक आधार है, GST ready सॉफ्टवेयर या ERP की सेवाएं का प्रयोग करना आसान होगा। सॉफ्टवेयर आपको आदर्श रूप से अनुमति देगा:
    • जीएसटी के अनुरूप फैशन में अपने खाते को बनाए रखना
    • जल्दी से ऑडिट करना और यदि कोई त्रुटियाँ हो तो उन का पता लगाना, और उन्हें ठीक करना
    • आवश्यक लेन-देन स्तर की जानकारी को एक साथ जोड़कर GST पोर्टल को उपलब्ध कराना
    • सही ITC के लिए अपने आपूर्तिकर्ताओं के साथ अपने चालानों का ऑनलाइन मिलान करना

संक्षेप में, सही सॉफ्टवेयर चुनना जो कि GSTN पोर्टल के लिए अंतिम मील कनेक्टिविटी की अनुमति देता है, बहुत ही महत्वपूर्ण होगा और यह किसी भी बड़े या छोटे व्यवसाय के लिए GST रिटर्न भरने के लिए एक विश्वसनीय और परेशानी मुक्त विधि होगी।

  • चरण 3: रिकॉर्ड लेनदेन वास्तविक समय – कंप्यूटर खरीदने और GST के अनुरूप लेखांकन सॉफ्टवेयर प्रयोग करने का फैसला अच्छा नहीं होगा, यदि वास्तविक समय में लेनदेन को रिकॉर्ड करने के लिए मूल अनुशासन आपके व्यापार में समझा नहीं जाता है। वास्तविक समय में सटीकता से लेनदेन रिकॉर्ड करना, यह सुनिश्चित करेगा कि रिटर्न भरते समय आपका वकार्यभार बहुत कम होगा। खातों का अपने बहीखातों का मिलान करने की प्रथा, कम से कम दिन के अंत में, यदि अधिक बार नहीं, यह सुनिश्चित करने में एक लंबा रास्ता तय करेगी कि आपके बहीखाते पहले से ही GST के अनुरूप हैं, यह आपको अपने व्यवसाय के लिए अपेक्षित रिटर्न दाखिल करने में मदद करेगी।
  • चरण 4: GST के लिए सही समर्थन प्राप्त करें – अधिकांश व्यवसाय पहले से ही आंतरिक या बाहरी लेखा परीक्षकों या कर रिटर्न तैयार करने वालों की सेवाओं का उपयोग कर रहे होंगे – जिन्हें अब GST अभ्यासकों या GSTP के रूप में जाना जाएगा, जो GST युग में अपना मार्गदर्शन और विशेषज्ञता प्रदान करना जारी रखेंगे। वैकल्पिक रूप से, यदि आप अपने घर में अनुपालन का प्रबंधन करना चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपकी टीम GST में अच्छी तरह से प्रशिक्षित है – जैसे कि GST की प्रक्रिया और प्रारूप पिछले कानून से पूरी तरह अलग है। विभिन्न व्यापार संघ, सरकार, पेशेवर संगठन और निजी संगठन GST प्रशिक्षण प्रदान करते हैं, और पूरे देश में बहुत सारे GST प्रशिक्षण और सत्र आयोजित किए जा रहे हैं, जो आपको तैयार होने के लिए सहायता करते हैं।
  • चरण 5: सामंजस्य प्रबंधन के लिए एक संसाधन आवंटित करें – सही अनुपालन के लिए और सही ITC का लाभ उठाने के लिए, आपूर्तिकर्ता द्वारा जमा किए गए डेटा को GSTIN द्वारा स्वीकार किए जाने के लिए ग्राहक के डेटा के साथ मिलाना चाहिए। चूंकि यह सिस्टम नया है और डेटा की आवश्यकताएं उच्च हैं, इसलिए शुरू में रिटर्न में कई विसंगतियाँ हैं। इन विसंगतियों को हल करने के लिए, आपके कार्यालय में संसाधन रखने का एक अच्छा विचार है, जो आपके आपूर्तिकर्ताओं से बात कर सके और मतभेदों को हल कर सके। चाहे आपका सॉफ़्टवेयर विसंगतियों को इंगित करने में सक्षम होगा, लेकिन अंत में मानव हस्तक्षेप उन्हें हल करने के लिए आवश्यक होगा। इसी तरह, आउटपुट पक्ष पर, आपके ग्राहक संभावित रूप से विसंगतियों को दूर करने के लिए आपकी पहल की सराहना करेंगे। हालांकि, यह कदम अल्पकालिक परिप्रेक्ष्य से अधिक होगा क्योंकि समय के साथ विसंगतियां कम होने की संभावना है।

निष्कर्ष

उपर्युक्त कदम उठाकर, व्यवसाय यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि GST रिटर्न भरने की अत्यंत महत्वपूर्ण गतिविधि, ज्यादा समय नहीं लेती और परेशानी मुक्त तरीके से की जा सकती है। अनुपालन के बुनियादी अनुशासन में प्रवेश केवल यह सुनिश्चित नहीं करेगा कि जीएसटी युग में व्यवसाय सही ITC प्राप्त कर रहे हैं, अपने नकदी प्रवाह और लाभप्रदता को बनाए रख रहे हैं, लेकिन व्यापार पारिस्थितिकी तंत्र में अपनी विश्वसनीयता के लिए भी अच्छा करेगा।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

21,139 total views, 4 views today

Pramit Pratim Ghosh

Author: Pramit Pratim Ghosh

Pramit, who has been with Tally since May 2012, is an integral part of the digital content team. As a member of Tally’s GST centre of excellence, he has written blogs on GST law, impact and opinions - for customer, tax practitioner and student audiences, as well as on generic themes such as - automation, accounting, inventory, business efficiency - for business owners.