परिचय

जीएसटी फाईल करने की अवधि शुरू हो गई है!

“मैं और मेरे टैक्स सलाहकार अपने व्यवसाय के लिए जीएसटी रिटर्न कैसे फ़ाइल कर सकते हैं?” – वह प्रश्न है जो आपके दिमाग में घूम रहा होगा। इस ब्लॉग में हम आपको सटीकता से रिटर्न फाईल करने के विषय में सलाह देंगे।

आइए जुलाई के निर्धारण महीने के लिए अलग-अलग जीएसटी रिटर्न के लिए फाइलिंग तिथियों का नोट बनाकर शुरू करें।

रिटर्न अवधिजीएसटीआर-1जीएसटीआर-2जीएसटीआर-3Bजीएसटीआर-3
जुलाई 201710 अक्टूबर तक31 अक्टूबर तक25-28 अगस्त10 नवम्बर तक

10 अक्टूबर, जुलाई के महीने के लिए आपके जीएसटीआर -1 रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तारीख है।

यदि आप पहले से ही जीएसटीआर-1 फ़ॉर्म को देख चुके हैं, तो आपने देखा होगा कि फ़ॉर्म में 13 टेबल हैं और प्रत्येक टेबिल में कई पंक्तियां हैं। स्पष्ट रूप से इसे भरने के लिए बहुत सारे डेटा और पर्याप्त समय की आवश्यकता है। आप इन विवरणों को गलत नहीं करना चाहेंगे।

इसमें कोई संदेह नहीं है, आपका कर परामर्शदाता आपके लिए कार्य संभालेगा। फिर भी, पिछले कर व्यवस्था के विपरीत, आपका सलाहकार अब सटीक डेटा प्राप्त करने के लिए आपकी सहायता लेता है। आपको अपने कर सलाहकार की आवश्यक अनुसार और जीएसटी के अनुरूप डेटा को तैयार करना शुरू करना होगा।

Support your tax consultant with GST compliant bills using Tally.ERP 9

याद रखें कि आपका व्यवसाय अनुपालन आखिरकार आपकी ज़िम्मेदारी है।

जीएसटी रिटर्न फाइल करने के लिए चरण

पहले, आप अपने कर सलाहकार द्वारा प्रदान की गए एमएस एक्सेल प्रारूप को भरते और भेजते थे। यदि आप टैली सॉफ़्टवेयर का उपयोग कर रहे थे, तो आप साथ में टैली डेटा फ़ाइल भेजते हैं। जीएसटी व्यवस्था में एकमात्र अंतर यह है कि अब आप व्यापार का डेटा भरने के लिए कर विभाग द्वारा प्रदान किए गए मानक एमएस एक्सेल प्रारूप का उपयोग करेंगे।

यह जानकर कि जीएसटी नियम नए हैं और नियमों को सटीक बनाने के लिए कर विभाग द्वारा लगातार अधिसूचना जारी की जा रही है, आपको अपने व्यापार के डेटा की सटीकता सुनिश्चित करने के लिए दोगुना आश्वस्त होने की आवश्यकता है। टैली में, हम सोचते हैं कि आपको सटीक फाइलिंग के लिए नीचे वर्णित चरणों को अपनाना होगा।

चरण 1: निर्धारित एमएस एक्सेल प्रारूप (या अपने सॉफ़्टवेयर द्वारा समर्थित किसी भी अन्य प्रारूप) में डेटा दर्ज करें और अपने सलाहकार को भेजने से पहले इसे अच्छी तरह से सत्यापित करें।

चरण 2: अपने कर परामर्शदाता को डेटा को क्रॉस-चेक करने दें और जीएसटीएन पोर्टल पर अपलोड करने से पहले स्वीकृति दें।

इन चरणों का पालन करने का लाभ यह है कि आप गलत फाइलिंग से बचने और अपने व्यापार डेटा पर बेहतर नियंत्रण और अवलोकन पाने के लिए एक दोहरी-जांची प्रक्रिया स्थापित करते हैं।

कुछ महीनों के बाद, आप और आपके कर परामर्शदाता दोनों प्रक्रिया से परिचित होंगे। एक बार जब आप आत्मविश्वास प्राप्त कर लेंगे, तो आप सीधे अपने सॉफ़्टवेयर से जीएसटीएन पोर्टल पर चालान और रिटर्न अपलोड करना शुरू कर सकते हैं।

नीचे उदाहरण की तीन स्थितियां हैं जिनमें उपरोक्त विधि वास्तव में उपयोगी सिद्ध होगी।

स्थिति / उदाहरण 1
जैसा कि आप जानते हैं, प्राप्त होने वाले सभी अग्रिम भुगतानों के लिए खातों में कर देयता को समायोजित करना होता है। आम तौर पर, बिक्री कर्मी दैनिक आधार पर प्राप्त अग्रिम और बिक्री रिकॉर्ड करते हैं। हालांकि, खातों को समायोजित करने का कार्य फाइनेंस कंट्रोलर / एकाउंटेंट द्वारा किया जाता है, न कि बिक्री टीम द्वारा। यह गतिविधि माह के अंत में यह सत्यापित करके की जाती है कि कर देयता की गणना केवल उन अग्रिमों के लिए की गई है जिनके विरुद्ध महीने में कोई बिक्री नहीं थी।

फाइनेंस कंट्रोलर / अकाउंटेंट भी सुधार करते हैं जो खातों को समायोजित करने और रिटर्न के लिए डेटा तैयार करने से पहले डाटा-एंट्री प्रक्रिया में हो सकता है।

जीएसटी व्यवस्था में, आपके कर अनुपालन डेटा को प्रबंधित करने का सबसे अच्छा तरीका माह के अंत के पास होने पर सभी देयता रिकॉर्ड और खातों को अंतिम रूप देना है। इससे आपको डेटा का पर्याप्त सत्यापन सुनिश्चित करने के लिए पूर्ण नियंत्रण प्राप्त हो सकेगा, जिसके बाद आप डेटा को कर सलाहकार को भेज सकते हैं।

स्थिति / उदाहरण 2

जीएसटी व्यवस्था में, अपंजीकृत डीलरों से प्रतिदिन रुपये 5,000 अधिक की खरीद रिवर्स शुल्क के लिए उत्तरदायी है। आपके एकाउंटेंट को रिवर्स शुल्क से अर्जित देनदारियों की शुद्धता को सत्यापित करने और किसी भी त्रुटि में संशोधन करने के लिए समय की आवश्यकता होगी। याद रखें कि यदि रिवर्स शुल्क पूरी तरह से समायोजित / सत्यापित नहीं होते हैं, तो आपकी देयता गलत हो सकती है जो नकद प्रवाह पर नकारात्मक प्रभाव डालती है।

इसका प्रबंधन करने का सबसे अच्छा तरीका माह अंत के पहले देयता रिकॉर्ड और खातों को अंतिम रूप देना है। टैक्स सलाहकार को भेजने से पहले, आप / आपके कर परामर्शदाता को महीने के लिए समेकित रूप में डेटा की समीक्षा करनी पड़ती है।

महीने के अंत से पहले एक तिथि चुनें, एक बार में डेटा की समीक्षा करने के लिए अपने कर्मचारियों के साथ बैठें और फिर कर सलाहकार को जमा करें। इस तरह आप महीने के लिए पूरी तरह से जानकारी का आकलन करने और सभी के लिए सुधार करने में सक्षम होंगे। यह अभ्यास आपको जीएसटी अनुपालन बनने की दिशा में आपकी व्यावसायिक जानकारी पर नियंत्रण और अधिक आत्मविश्वास प्राप्त करने में सक्षम करेगा।

स्थिति / उदाहरण 3

जीएसटी व्यवस्था के महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक ‘चालान का मिलान’ करना है।

यह काफी स्वाभाविक है, जैसे कि आप जीएसटी व्यवस्था में समायोजित होने के लिए समय ले रहे हैं, आपके विक्रेताओं को भी इसी तरह का अनुभव हो रहा है। यह संभव है कि आपके विक्रेता डेटा-एंट्री त्रुटियों करें और इनवॉइस-मिलान सुनिश्चित करने के लिए उनको संशोधित करने का अनुरोध करें।

हर महीने के अंत से पहले अपने सभी चालान-मिलान कार्यों को अंतिम रूप दें और अपने खरीदारों को विश्वास दिलाएं कि आप परस्पर स्वीकार्य संशोधन के लिए तैयार हैं। यह आपके व्यावसायिक संबंधों को बढ़ाएगा।

निष्कर्ष

हम दृढ़ता से अनुशंसा करते हैं कि रिटर्न फाईल करने की गतिविधि के हिस्से के रूप में आप उपरोक्त प्रक्रिया को अपनाएं। एक बार जब आप और आपका सलाहकार जीएसटी प्रक्रियाओं से सहज हो जाएंगे, तो वह हमारे लिए हमारे सॉफ़्टवेयर के एक अपग्रेड संस्करण को रोलआउट करने का समय होगा। सीधे टैली से जीएसटीएन तक चालान और रिटर्नस् आंकड़े अपलोड करने के अतिरिक्त आप बेजोड़ अनुपालन, सुविधा और कनेक्ट किए गए डिवाइसों के साथ मिलने वाली नई संभावनाओं का भी आनंद लेंगे।

जीएसटी ने न केवल व्यवसाय करने के तरीके को बदल दिया है, बल्कि रिटर्न फाईल करने की प्रक्रिया भी बदल दी है। हम सभी नई कर व्यवस्था के आरम्भ में हैं। नई जीएसटी प्रक्रियाओं से परिचित होने में समय लगता है। हम इस यात्रा में आपके साथ हैं और आपको सर्वोत्तम संभव तरीके से रिटर्न दाखिल करने में मदद करेंगे। कृपया अपने विचार साझा करें।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

52,042 total views, 21 views today

Avatar

Author: Santosh AR