नोध : यह ब्लॉग पोस्ट विशेष रूप से कर रिटर्न दाखिल करने की सेवाओ से जुड़े हुए और कर सलाहकारो के लिए है। यहां तक की व्यापार के मालिको को भी यह पोस्ट से बड़ी सहायता मिलेगी।

प्रस्तावना

23 वीं GST परिषद की बैठक के अनुसार, नियमित करदाताओं को मार्च 2018 के अंत तक GSTR-1 और GSTR-3B फाइल करना होगा। वर्तमान में आपको अपने ग्राहक के जुलाई से अक्टूबर महीने के GSTR-1 और नवंबर महीने के लिए GSTR-3B को दर्ज करवाने की तैयारी करनी पड़ेगी। भले ही आपको आपके ग्राहक से GSTR-1 डेटा दर्ज करवाने के लिए डिजिटल प्रारूप में मिले फिर भी आपको कुछ समस्या का सामना करना पड़ेगा। इस ब्लॉग पोस्ट में हम आपसे ऐसी समस्याओ के बारे में बात करेगे और इन समस्याओ से निपटने का मार्ग भी आपके साथ साजा करेंगे।
कर सलाहकार को अपने ग्राहक के डेटा को डिजिटलकृत करने के लिए कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है

हमारे पहले ब्लॉग पोस्ट में हमने आपको अपने ग्राहकों के GSTR-1 और GSTR-3B दर्ज करने के लिए Tally.ERP 9 का इस्तमाल कैसे करना है यह बताना है।

GST रिटर्न दाखिल करने में कर सलाहकारों के सामने आने वाली चुनौती

GST रिटर्न को दर्ज करने के लिए डेटा को डिजिटल करना पर्याप्त है? GSTN पोर्टल केवल GST के अनुरूप डेटा को स्वीकार करता है। टैक्स कंसल्टेंट के तौर पर, आप यह सुनिश्चित कैसे कर सकते हैं कि रिटर्न दाखिल करने के लिए आपके ग्राहक द्वारा साझा किए गए डेटा सही प्रारूप में है?
चलिए वर्तमान में आप ग्राहकों से किस किस तरीके से डेटा प्राप्त करते है हम उन सभी तरीको को देखते है;

1. Tally.ERP 9 के माध्यम से
2. बिलिंग सोफ्टवेर से निर्यात किया गया डेटा
3.एक्सेल में चलन का विवरण

अब हम आपको उपर दिए गई प्रत्येक मामले के बारे में विस्तार से बतायेंगे और और सभी चुनोतियो का वर्णन करेंगे ;

केस 1: Tally.ERP 9 से डेटा प्राप्त करने पर टेक्स कंसल्टेंट्स के सामने आने वाली चुनोतिया

a. यदि आपका ग्राहक Tally.ERP 9 का 6.1 या निचे दिया गया वर्जन का उपयोग करता है तो वह GSTR-1 निर्यात करने के लिए सक्षम नही होगा। इसलिए वह आपके साथ एक्सेल फ़ाइल में बिक्री डेटा साझा करेगा। आपको ऑफलाइन इस लेनदेन को मेन्युअल रूप से रेकोर्ड करना होगा, या आप GSTR-1 की तरह एक्सेल स्वरूप में इन डेटा को दोहरा सकते है।
इन दोनों तरीकों से समय लगता है और त्रुटियों की संभावना होती है। और सबसे बड़ी चुनौती यह है की आप दी गई समय अवधि में GSTR-3B और GSTR-1 दाखिल नही कर पाएँगे। GSTR-1 और GSTR-3B में स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए आप अपने क्लाइंट की सभी एक्सेल फाइलों पर कैसे नज़र रखेंगे?

b. यदि आपका ग्राहक Tally.ERP 9 के पुराने वर्जन का इस्तमाल करता है तो सबसे पहेले GST के अनुरूप लेनदेन रेकोर्ड करने में काफी चुनौतिया होगी, और इसमें त्रुटी होने की बहुत ही सम्भावना है। दूसरा जब वो लेनदेन का डेटा साजा करता है तब आपको GSTIN नंबर, प्लेस ऑफ सप्लाई आदि के विवरण भी जोड़ने होंगे। यह अपने आप में एक चुनौतीपूर्ण काम है इसके बाद आपको डेटा को GSTR-1 के मुताबिक एक्सेल स्वरूप में बदलना होगा। जैसा कि आप कल्पना कर सकते हैं, इसमें बहुत समय लगेगा। इसके अतिरिक्त, आपके पास इन श्रेष्ठ फ़ाइलों को बचाने और बनाए रखने की चुनौती है। इसी समय में GSTR-3B और GSTR-1 में स्थिरता सुनिश्चित करना भी एक चुनौती है।

केस 2: ग्राहक जब बिलिंग सोफ्टवेर से डेटा निर्यात करता है तब सामने आने वाली चुनौतिया
इस मामले में, आप क्लाइंट के बिलिंग सॉफ़्टवेयर से निर्यात किए गए डेटा एक्सेल में प्राप्त कर रहे हैं। उपरोक्त मामले में उल्लिखित समय लेने की प्रक्रिया को दोहराना होगा।

a. आप यह कैसे सुनिश्चित करेंगे की आपके साथ साजा किया गया डेटा GST के अनुरूप ही है? GST के अनुरूप चलन से हमारा मतलब है की –

  • क्या GSTIN सही है?
  • क्या सही कर लगाया गया है? CGST, SGST और IGST क्या सही तरीके से अलग किए गए है?
  • यदि लागु हो तो क्या HSN और SAC सही तरीके से दर्ज है?

b. आप डेटा में त्रुटियों की पहचान कैसे करेंगे?
c. आप उन त्रुटियों को कैसे सुधारेंगे? क्या आपके पास ऐसा करने के लिए एक सॉफ्टवेयर है?

आप जो रिटर्न दर्ज करते है यदि वो GST के अनुरूप नहीं है तो GSTN पोर्टल पर उसे अस्वीकार कर दिया जाएगा, और आपके ग्राहक को देर से कर दर्ज करवाने पर शुल्क भुगतना होगा। क्या आप इस परेशानी से बचना नही चाहते?

केस 3: जब ग्राहक एक्सेल टेम्पलेट में डेटा साजा करता है तब सामने आने वाली चुनौतिया
आपके ग्राहक ने एक्सेल में डेटा या तो आपके बनाए हुए डेटा के मुताबिक या फिर वो डेटा उसके सॉफ्टवेयर के आधार पर बनाया होगा । आप या तो इस फ़ाइल को ऑफलाइन अपलोड कर सकते है या फिर GSTR-1. के मुताबिक डिज़ाइन किए गए अपने एक्सेल टेम्पलेट में मैन्युअल रूप से डेटा की प्रतिलिपि बना सकते हैं। यह स्पष्ट रूप से समय लेने वाला काम है, लेकिन चुनौतियो के परे हैं!

a. यदि आपको एक त्रुटि के बारे में मालूम होता हैं या रिटर्न दाखिल करने के दौरान कुछ विवरण बदलने की आवश्यकता महसूस करते हैं, तो क्या होगा? आप अपने ग्राहक से कैसे सम्वाद करेंगे?
b. आपको अपने ग्राहक की सभी एक्सेल फ़ाइल संग्रहित करने की आवश्यकता होगी, क्योकि GSTR-2 के दौरान आपको इसे जांच के लिए पेश करने की आवश्यकता हो सकती है ।
c. इसके आलावा आप सिर्फ इससे GST दर्ज करवा सकते है, तो फिर एक प्रयासशील गतिविधि वहिखाता का क्या होगा? कई अन्य चुनौतियां हैं जो GST रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया में परेशानी पैदा कर सकती हैं। अच्छी खबर यह है कि इन सभी बाधाओं से कुछ साधारण प्रथाओं का पालन करके बचा जा सकता है।

जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की चुनौतियों पर काबू पाने के लिए सर्वोत्तम उपाय

1. आपके जो ग्राहक Tally.ERP 9 के उपयोग करता है उन्हें उसके नवीनतम संस्करण को अपडेट करने के लिए कहे, ताकि वे ठीक से GST रिटर्न दाखिल कर सके। आप अपने ग्राहकों को GSTR-1 फॉर्म निर्यात करने से पहेले Tally की त्रुटी पहचानने की और उसमे सुधार करने की क्षमता का उपयोग करना भी सिखाइए।

2. Tally.ERP 9 की नवीनतम क्षमता का उपयोग करके आप GST फाईलिंग की प्रक्रिया के हिस्से के रूप में आपके द्वारा संशोधित वाउचर की केवल सूची साझा कर सकते हैं।
3. एक्सेल फ़ाइल या फिर अन्य कोई माध्यम से डेटा साजा करने वाले ग्राहकों के किस्से में Tally.ERP 9 में डेटा दाखिल कर सकते है, और उसे GSTN पोर्टल में अपलोड करने से पहेले त्रुटी का पता लगा सकते है। इस तरह से आप समय की बचत करेंगे और GSTN पोर्टल में अस्वीकार से बचेंगे। इसके आलावा Tally.ERP 9 में दर्ज किया हुआ डेटा आवश्यकता होने पर पाया जा सकता है।

बाजार अंतर्दृष्टि के आधार पर अपने विचार साझा करेंगे।
अपने विचारों को अच्छी तरह से साझा करें और हमारे ब्लॉग पोस्ट को पढ़ते रहें।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

35,440 total views, 4 views today

Avatar

Author: Abbas MIS