पिछले कुछ महीनों में, देश भर में कई व्यवसाय सरकार की ओर से जीएसटी नोटिस से पीड़ित हैं। यदि रिपोर्टों पर विश्वास किया जाय, तो जीएसटी विसंगतियो या जीएसटी के कम भुगतान की मात्रा लगभग 34% है, जिससे कि 34,400 करोड़ रुपये की भारी घाटा है। जुलाई और दिसंबर 2017 के बीच दायर किए गए सभी जीएसटी रिटर्न के प्रति उत्तर में, करदाताओं और फर्मों दोनों को ये नोटिस दिया गया है – जिससे जीएसटी अनुपालन के आसपास डर की सामान्य भावना उत्पन्न हो रही है। जब हम एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में एक और वर्ष का आरम्भ करते हैं, हम इस बारे में एक ब्लॉग प्रस्तुत कर रहे हैं कि हम कैसे डर से स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं – और जीएसटी विसंगतियों और जीएसटी नोटिस से बच सकते हैं।

जीएसटी विसंगति के पीछे कारण

आरंभ करने के लिए, जीएसटी विसंगति क्यों होती है इसके दो प्रमुख कारण हैं। सबसे पहले, व्यक्ति द्वारा फॉर्म जीएसटीआर -3बी में सारांश रिटर्न दाखिल करने और फॉर्म जीएसटीआर -1 में सभी बाहरी आपूर्ति के चालान-वार विवरण प्रदान करने के बाद स्वयं घोषित जीएसटी देयता और उपलब्ध इनपुट टेक्स क्रेडिट के बीच अंतर आना। दूसरा, फॉर्म जीएसटीआर-3बी और फॉर्म जीएसटीआर-2ए में प्रदर्शित मूल्यों के बीच अंतर, जैसे किसी के आपूर्तिकर्ता से क्रय का विवरण। यह समझने योग्य है, बाद का कारण सरकार के लिए अधिक महत्वपूर्ण है, क्योंकि वास्तव में आपूर्तिकर्ता द्वारा चुकाए गए कर के विरुद्ध गलत आईटीसी आवंटन के परिणामस्वरूप जीएसटी राजस्व की हानि हुई है।

जीएसटी विसंगति के कारण जुर्माना

इन जीएसटी विसंगतियों और जीएसटी नोटिस के उद्भव के साथ, यह काफी हद तक माना जा सकता है कि गैर-अनुपालन की ओर कर विभाग का पिछला मुलायम दृष्टिकोण जीएसटी युग में समाप्त हो सकता है। सरकार वास्तव में अपने कार्य के बारे में कठोर है और नोटिस प्राप्त करने वाले सभी व्यवसायों को 30 दिनों का अनिवार्य समय दिया है। नोटिस जारी करने पर, यदि निर्धारित तिथि के भीतर कोई स्पष्टीकरण प्राप्त नहीं होता है, तो यह माना जाएगा कि उसे प्रदान करने के लिए कोई स्पष्टीकरण नहीं है, और एक व्यवसाय के खिलाफ प्रासंगिक कार्यवाही शुरू की जाएगी। कड़ी जीएसटी प्रक्रियाओं को न भूलें, जिन्होंने गलत तरीके से दावा किए गए आईटीसी पर 18% ब्याज निर्धारित किया है, जो कर चोरी या हेरफेर प्रथाओं को हतोत्साहित करने के लिए बाध्य है। इस प्रकार, यह महत्वपूर्ण है कि व्यवसायों को पता हो कि जीएसटी विसंगतियों से बचने के लिए क्या किया जाना चाहिए और बदले में, वे जीएसटी दंड से बच सकें।

जीएसटी विसंगति से बचने के लिए उठाए जा सकते वाले कदम

ऐसी परिस्थितियों में, जीएसटी विसंगतियों से बचने के लिए व्यवसाय संभवतः क्या कर सकता है,

सही विक्रेताओं के साथ काम करें

जीएसटी अनुपालन आपूर्तिकर्ताओं के सही समूह के साथ काम करना पहले कदमों में से एक है। ऐसा करने से यह सुनिश्चित होगा कि किसी भी समय, किसी व्यवसाय द्वारा अपलोड किया गया क्रय विवरण और उसके आपूर्तिकर्ताओं द्वारा अपलोड किए गए डेटा के बीच कोई भी जीएसटी विसंगति नहीं है। यह भिन्न आईटीसी गणनाओं की संभावनाओं को खत्म कर देगा, और यह सुनिश्चित कर सकता है कि फॉर्म जीएसटीआर-3बी और फॉर्म जीएसटीआर- 2ए में डेटा सुसंगत है।

व्यवस्थित रूप से रिकॉर्ड बनाए रखें

एक और कदम, फॉर्म जीएसटीआर-3बी में सारांश रिटर्न दाखिल करते समय और फॉर्म जीएसटीआर-1 में अंतिम रिटर्न दाखिल करते समय भरे जाने वाले आंकड़ों पर गहरी नजर रखना व्यवसायों की आवश्यकता है। इसके लिए व्यवसायों से जीएसटी अनुपालन एकाग्रता के काफी उच्च स्तर की आवश्यकता होती है, जिसे केवल खातों की पुस्तकों और लेनदेन के रिकॉर्ड को व्यवस्थित तरीके से रखने के द्वारा सम्भव किया जा सकता है। समझने की बात है कि वे व्यवसाय जो अभी भी मैन्युअल रिकॉर्ड रखते है या जो स्प्रेडशीट्स पर व्यावसायिक रिकॉर्ड रखते हैं, उन्हें आवश्यक सुधार लाने में मुश्किल होगी, और वह भी कम समय-सीमा के भीतर, जो इस तरह के नोटिस का जवाब देने के लिए उपलब्ध है। समय की आवश्यकता, स्वाभाविक रूप से, कुछ स्वचालित प्रणाली या जीएसटी सॉफ्टवेयर सिस्टम है, जो एक व्यापार को अनुपालन करने में सक्षम बनाता है।

हालांकि, एक उत्साह जनक बात यह है कि मूल रिटर्न फाइलिंग मॉडल ने, फॉर्म जीएसटीआर-1 और फॉर्म जीएसटीआर-3बी के साथ, संघनित मॉडल को रास्ता दिया है, जिससे सरकार देश भर में जीएसटी अनुपालन की उचित मात्रा लागू करने में सक्षम है। जब सरलीकृत रिटर्न फाइलिंग मॉडल दरवाजे पर दस्तक दे रहा है, यह सही समय होगा कि व्यवसाय सही तकनीक को अपनाएँ, और जीएसटी नोटिस से स्वतंत्रता का आनंद लें, जीएसटी विसंगतियों से बचें और दिन के अंत में परेशानियों से दूर रहें।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

60,560 total views, 21 views today