अचल सम्पत्ति मतलब एक ऐसी अचल वस्तु, सम्पत्ति की ऐसी चीज जिसे नष्ट किए बिना या बदले बिना हिलाया नहीं जा सकता। यह सम्पत्ति पृथ्वी पर स्थिर है, जैसे कि, जमीन का कोई टुकड़ा अथवा कोई घर।

वर्तमान टैक्स व्यवस्था में, किसी अचल सम्पत्ति के सम्बन्ध में प्रदान की गई कर योग्य सेवाओं पर सेवा कर लगाया जाता है।
सर्विस टैक्स, केन्द्रीय लेवी होने के कारण, सभी पर लागू होता है, भले ही सेवा राज्य के अन्दर प्रदान की गयी हो या किसी दूसरे राज्य को।

GST व्यवस्था में, आपूर्ति पर लगने वाले टैक्स का पता लगाने के लिए यह निर्धारित करना अनिवार्य है कि प्रदान की गयी आपूर्ति राज्य के भीतर (इंट्रास्टेट) की है या राज्य के बाहर की (इंटरस्टेट)। इसका निर्धारण सेवा की आपूर्ति की जगह का पता लगाकर किया जा सकता है।

अगर किसी अचल सम्पत्ति से सम्बद्ध सेवाएँ प्रदान की जाती है,तो आपूर्ति की जगह का पता लगाने के लिए विशेष नियम रखे गए हैं। ये नियम सेवाओं की आपूर्ति की जगह के निर्धारण के सामान्य नियमों को रद्द करते हैं।

अचल सम्पत्ति के संबंध में प्रदान की गयी सेवाओं की आपूर्ति की जगह वह स्थान होगा जहाँ अचल सम्पत्ति स्थित है या स्थित करने का इरादा है।

अचल सम्पत्ति के संबंध में प्रदान की गयी सेवाओं की आपूर्ति की जगह वह स्थान होगा जहाँ अचल सम्पत्ति स्थित है या स्थित करने का इरादा है। ट्वीट करने के लिए क्लिक करें.Click To Tweet

इसके चार परिदृश्य हो सकते हैं:

1. किसी अचल सम्पत्ति से सम्बंधित सीधे प्रदान की गयी सेवाएँ

इसमें आर्किटेक्चर, इंटीरियर डेकोरेटर, सर्वेयर, इंजिनियर, आदि के द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाएँ शामिल हैं।

उदहारण के लिए: राज होटल्स, जिसका रजिस्ट्रेशन शिमला, हिमाचल प्रदेश में हुआ है, देहरादून, उत्तराखंड में एक होटल बना रहा है। होटल का इंटीरियर डेकोरेशन रवि इंटीरियर्स द्वारा किया जा रहा है, जिनके व्यापार की रजिस्टर्ड जगह देहरादून, उत्तराखंड में है।

इंटीरियर डेकोरेशन सेवा की आपूर्ति के लिए,

सप्लायर (आपूर्ति प्रदाता) का स्थान: देहरादून, उत्तराखंड

सप्लाई (आपूर्ति) का स्थान: हालाँकि सेवा प्राप्त करने वाला राज होटल्स की व्यवसाय के लिए रजिस्टर हुई जगह शिमला, हिमाचल प्रदेश है, आपूर्ति का स्थान होटल की जगह होगी, अर्थात् देहरादून, उत्तराखंड

यह इंट्रास्टेट (राज्यों के बीच) आपूर्ति है और लागू होने वाले टैक्स CGST और SGST हैं।

Hindi_Place-of-Supply-of-Services_9-1 (1)

2. किसी अचल सम्पत्ति में अस्थाई आवास

इसमें किसी होटल, सराय, गेस्ट हाउस, होम स्टे, क्लब, कैम्पिंग की जगह, हाउस बोट, आदि द्वारा प्रदान किया जाने वाला आवास है।

उदाहरणस्वरूप: शिमला, हिमाचल प्रदेश में राज होटल्स, श्री तारीक को आवास प्रदान करता है। श्री तारीक एक आधिकारिक सेमिनार के लिए जयपुर, राजस्थान में एक रजिस्टर्ड डीलर हैं।

सप्लायर का स्थान: शिमला, हिमाचल प्रदेश

सप्लाई का स्थान: शिमला, हिमाचल प्रदेश

यह इंट्रास्टेट (राज्यों के बीच) आपूर्ति है और लागू होने वाले टैक्स CGST और SGST हैं।

Hindi_Place-of-Supply-of-Services_10 (1)

3.कोई कार्यक्रम आयोजित करने के लिए किसी अचल सम्पत्ति में आवास

इसमें कोई आधिकारिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, आध्यात्मिक या व्यावसायिक कार्यक्रम आयोजित करने के लिए आवास प्रदान करना शामिल है।

उदाहरणस्वरुप: गुरुग्राम, हरियाणा में एक रजिस्टर्ड डीलर, मुकेश ऑटोमोबाइल्स प्राइवेट लिमिटेड 3 दिन के लिए एक आधिकारिक कॉन्फ्रेंस के लिए शिमला, हिमाचल प्रदेश में राज होटल्स का एक कॉन्फ्रेंस हॉल बुक करता है।

सप्लायर का स्थान: शिमला, हिमाचल प्रदेश

सप्लाई का स्थान: शिमला, हिमाचल प्रदेश

यह इंट्रास्टेट (राज्यों के बीच) आपूर्ति है और लागू होने वाले टैक्स CGST और SGST हैं।

Hindi_Place-of-Supply-of-Services_10 (1)

4. ऊपर वर्णित सेवाओं की पूरक कोई और सेवाएँ

उदाहरणस्वरुप: मुकेश ऑटोमोबाइल्स प्राइवेट लिमिटेड, शिमला, हिमाचल प्रदेश में राज होटल्स में कॉन्फ्रेंस हॉल बुक करने के साथ आधिकारिक कॉन्फ्रेंस के लिए अपने मेहमानों के लिए भोजन और पेय पदार्थों का ऑर्डर करता है।

सप्लायर का स्थान: शिमला, हिमाचल प्रदेश

सप्लाई का स्थान: शिमला, हिमाचल प्रदेश

यह इंट्रास्टेट (राज्यों के बीच) आपूर्ति है और लागू होने वाले टैक्स CGST और SGST हैं।

Hindi_Place-of-Supply-of-Services_10 (1)

जैसी कि ऊपर चर्चा की गयी है, वर्तमान व्यवस्था में, अचल सम्पत्तियों के संबंध में प्रदान की गई सेवाओं पर सर्विस टैक्स लगाया जाता है। क्योंकि सर्विस टैक्स एक सेंट्रल लेवी है, प्राप्त की गई सेवाओं पर इनपुट क्रेडिट, प्रदान की गई सेवाओं की जिम्मेदारी के अनुसार रखा जा सकता है, वह किस राज्य से संबंधित है, इसका कोई फर्क नहीं पड़ता।

ऊपर दिए गए उदहारण को देखते हुए, वर्तमान व्यवस्था में, हरियाणा में मुकेश ऑटोमोबाइल्स प्राइवेट लिमिटेड हिमाचल प्रदेश में होटल के शुल्क पर भुगतान किए गए टैक्स का इनपुट क्रेडिट ले सकता है। हालाँकि, GST के युग में, अचल सम्पत्ति के संबंध में प्रदान की गयी सेवाओं की आपूर्ति की जगह अचल सम्पत्ति का स्थान है। इसका तात्पर्य है कि इन स्थितियों में लागू होने वाला टैक्स CGST और SGST होगा।

यह ध्यान देने योग्य है कि एक राज्य का CGST और SGST क्रेडिट दूसरे राज्य की जिम्मेदारी का निर्धारण करने के लिए काम में नहीं लिया जा सकता। ऐसी स्थिति में, जब कोई रजिस्टर्ड व्यकित किसी अलग राज्य में अचल सम्पत्ति की सेवाएँ लेता है तो वह व्यक्ति दूसरे राज्य से ली गई उस सेवा पर इनपुट क्रेडिट नहीं ले सकेगा। इस तरह, GST व्यवस्था में, मुकेश ऑटोमोबाइल्स प्राइवेट लिमिटेड, जो हरियाणा में रजिस्टर्ड है, वह हिमाचल प्रदेश में भुगतान किये गए CGST और SGST इनपुट क्रेडिट नहीं ले सकता।

पंक्ति-में-अगला: घटनाओं के संबंध में सेवाओं की आपूर्ति की जगह

हमें आपकी मदद की जरूरत है
कृपया नीचे कमेंट के द्वारा इस ब्लॉग पोस्ट पर अपनी प्रतिक्रिया शेयर करें। हमें यह भी बताएँ GST संबंधित कौनसे विषय पर आप और अधिक जानना चाहेंगे, हमें उसे अपनी योजना में शामिल करके ख़ुशी होगी।

यह मददगार रहा? नीचे दिए गए सोशल शेयर बटन के द्वारा इसे अन्य लोगों के साथ शेयर करें।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

53,181 total views, 103 views today