हमने पिछले ब्लॉग में ऐसे परिदृश्यों के बारे में सीखा है जिसमें एक सप्लायर को डेबिट नोट जारी करना चाहिए। डेबिट नोट्स और क्रेडिट नोट्स का उपयोग एक आपूर्ति की रद्द करने या संशोधन के लिए किया जाता है जिसके लिए टैक्स इनवॉइस या बिल ऑफ सप्लाई पहले ही जारी किया जा चुका है। इस ब्लॉग में, आइए हम उन परिदृश्यों को समझें, जिनमें एक सप्लायर GST के तहत क्रेडिट नोट जारी कर सकता है।

GST के तहत क्रेडिट नोट कब जारी किया जाये

माल या सेवाओं की आपूर्ति करने वाले व्यक्ति को निम्नलिखित परिदृश्यों में क्रेडिट नोट जारी करना चाहिए:

a. आपूर्ति प्राप्तकर्ता द्वारा वापस कर दी जाती है या उसमें कमी पायी जाती है

प्राप्त किया गया सामान या माल / सेवाओं द्वारा दिए गए सामान को प्राप्तकर्ता द्वारा कमी के रूप में पाया जाता है, तो आपूर्तिकर्ता को क्रेडिट नोट जारी करना चाहिए। क्रेडिट नोट मूल आपूर्ति के मूल्य को कम करने के उद्देश्य से कार्य करता है|
उदाहरण के लिए: दिल्ली में मोहन अपैरेल ने दिल्ली में राकेश गारमेंट्स के लिए 1000 रूपये प्रति कमीज के मूल्य पर 100 कमीजों की आपूर्ति की| CGST @ 6% (रूपये 6,000) और SGST @ 6% (रूपये 6,000) वसूल की गयी| राकेश गारमेंट्स द्वारा 10 शर्ट वापस लौटाए जाते हैं, जो ट्रांजिट के दौरान क्षतिग्रस्त हो गये थे|
यहां, मोहन अपैरेल को राकेश गारमेंट्स को 10 शर्ट की वापसी के लिए एक क्रेडिट नोट जारी करना चाहिए। वापस की गयी शर्ट की कीमतों पर, उदाहरण के लिए 10,000 रूपये (10 units @ 1,000 प्रत्येक के अनुसार), CGST @ 6% (600 रूपये) और SGST @ 6% (600 रूपये ) वापस किये जाने चाहिए|
इससे आपूर्ति के मूल मूल्य में कमी आ जाएगी, जिसके परिणामस्वरूप आपूर्ति पर लागू कर में कमी आएगी।

b. कर योग्य मूल्य में कमी

जब एक सप्लायर को आपूर्ति के कर योग्य मूल्य में कमी की आवश्यकता होती है, तो उसे प्राप्तकर्ता को एक क्रेडिट नोट जारी करनी होगी|
उदाहरण के लिए: दिल्ली में मोहन अपैरेल दिल्ली में राकेश गारमेंट्स के लिए प्रत्येक 1000 रूपये प्रति कमीज की दर 100 कमीज की सप्लाई करते हैं| CGST @ 6% (6,000 रूपये) और SGST @ 6% (6,000 रूपये) वसूल किये जाते हैं| बाद की तारीख में, मोहन अपैरेल राकेश गारमेंट्स को सूचित करते हैं कि अगर वे नकदी में आपूर्ति के लिए भुगतान करते हैं, तो वे शर्ट के मूल्य पर 1% की छूट दे देंगे। तदनुसार, राकेश गारमेंट्स नकद में भुगतान करता है।
यहां, आपूर्ति के बाद राकेश गारमेंट्स को दी गई छूट को रिकॉर्ड करने के लिए, मोहन एपरेल्स क्रेडिट नोट जारी करेंगे। छूट के लिए क्रेडिट नोट होगा 1,000 रूपये का (1,00,000 रूपये की कीमत पर 1%)| 1,000 रूपये पर, CGST @ 6% ( 60 रूपये) और SGST @ 6% ( 60 रूपये) वापस किया जायेगा|

c. चालान में वसूल GST में कमी

जब एक सप्लायर को चालान में लगाई गयी GST की दर या मूल्य में कमी की आवश्यकता होती है, तो उसे प्राप्तकर्ता को क्रेडिट नोट जारी करना होगा|
उदाहरण के लिए:दिल्ली में मोहन अपैरेल दिल्ली में राकेश गारमेंट्स के लिए 1000 रूपये प्रति कमीज की दर से 100 कमीजों की सप्लाई करता है| डाटा एंट्री में गलती के कारण मोहन अपैरेल ने आपूर्ति पर CGST @ 9% (Rs. 9,000) और SGST @ 9% (Rs. 9,000) की वसूली की| बाद में उन्हें पता चला कि इनवॉइस में अधिक टैक्स लगाया गया है और CGST & SGST प्रत्येक पर 6% आपूर्ति पर लागू किया गया था।
यहां पर, मोहन अपैरेल राकेश गारमेंट्स को एक क्रेडिट नोट जारी करेंगे। क्रेडिट नोट अतिरिक्त वसूल की गयी राशी के लिए होगा, उदारहण के लिए CGST 3,000 रूपये की और SGST 3,000 रूपये की|

क्रेडिट नोट जारी करने की समय सीमा

एक सप्लायर अगले वित्तीय वर्ष के 30 सितंबर या उससे पहले टैक्स चालान या टैक्स इनवॉइस से संबंधित वार्षिक रिटर्न दाखिल करने की तिथि, जो भी पहले हो के विरुद्ध एक टैक्स चालान जारी कर सकता है|

आप हमारे ब्लॉग ‘All you need to know about invoicing under GST’में विस्तार से क्रेडिट नोट जारी करने के लिए इस समय सीमा को समझ सकते हैं।

GST के तहत क्रेडिट नोट कैसे जारी किया जाए

GST के तहत एक क्रेडिट नोट प्रारूप का नमूना नीचे दिखाया गया है:
credit note

क्रेडिट नोट का विवरण प्रस्तुत करना

एक माह में जारी किए गए क्रेडिट नोटों का ब्योरा नीचे दिखाए गए अनुसार तालिका 9 में GSTR-1 फॉर्म में आपूर्तिकर्ताओं द्वारा प्रस्तुत किया जाना चाहिए: GSTR-1
GSTR-1 फॉर्म
Form GSTR-1

आपूर्ति के प्राप्तकर्ता को विवरण इन GSTR-2A फॉर्म में मिलेगा जैसा कि नीचे दिखाया गया है:
GSTR-2A फॉर्म
Form GSTR-2A
प्राप्तकर्ता को विवरण स्वीकार करना होगा और फॉर्म GSTR-2 में जमा करना होगा। यहां नोट करने के लिए एक बिंदु यह है कि एक आपूर्तिकर्ता को क्रेडिट नोट के जरिए अपने कर दायित्व को कम करने की अनुमति दी जायेगी, अगर आपूर्ति के प्राप्तकर्ता फॉर्म GSTR-2 में क्रेडिट नोट विवरण स्वीकार करेंगे| एक बार ऐसा करने के बाद, प्राप्तकर्ता का इनपुट टैक्स क्रेडिट (ITC) क्रेडिट नोट की सीमा तक उलट हो जाएगा और आपूर्तिकर्ता की कर देयता भी तदनुसार कम हो जाएगी।
ऐसे मामलों में आपूर्ति के प्राप्तकर्ता द्वारा एक क्रेडिट नोट भी जारी किया जा सकता है जैसे कि आवक आपूर्ति के लिए इनवॉइस में दिखाए जाने वास्तविक मूल्य से कम है या आवक आपूर्ति के लिए लगाए कर वास्तविक से कम है। हालांकि, इन मामलों में, इनवॉइस के मूल्यों में संशोधन केवल तभी किया जाएगा जब सप्लायर आपूर्ति के लिए संबंधित डेबिट नोट के सम्बन्ध में संवाद करता है।जारी किए गए डेबिट नोट का विवरण सप्लायर द्वारा प्रस्तुत किया जाता है और इसे प्राप्तकर्ता द्वारा स्वीकार किया जाता है। इसके बाद, प्राप्तकर्ता के आपूर्तिकर्ता और इनपुट टैक्स क्रेडिट की कर देनदारी को तदनुसार संशोधित किया जाएगा।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

74,592 total views, 69 views today