इनपुट टेक्स क्रेडिट सभी करदाताओं के लिए जीएसटी अनुपालन का हृदय है। यह इनपुट टेक्स क्रेडिट का ही प्रावधान है जो सुनिश्चित करता है कि करदाताओं को केवल माल या सेवाओं में जोड़े गए मूल्य पर ही जीएसटी का भुगतान करना होगा। जीएसटी कार्यान्वयन के पहले चरण में, करदाताओं को जीएसटीआर -3बी में घोषित स्व-मूल्यांकन के आधार पर इनपुट कर क्रेडिट का दावा करना होता था। जीएसटी कार्यान्वयन के दूसरे चरण में, जैसा कि हमारे लेख ‘नई जीएसटी रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया’ में चर्चा की गई है, प्रत्येक करदाता के इनपुट कर क्रेडिट की गणना उनके आपूर्तिकर्ताओं द्वारा अपलोड और करदाता द्वारा लॉक किए गए चालानों के आधार पर की जाएगी। आइए नई जीएसटी रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया के अन्तर्गत इनपुट टैक्स क्रेडिट नियमों को समझें।

नए जीएसटी रिटर्न के तहत इनपुट टैक्स क्रेडिट नियम – तंत्र

नई जीएसटी रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया के तहत इनपुट टैक्स क्रेडिट नियमों के अनुसार, केवल आपूर्तिकर्ता द्वारा अपलोड किया गये और क्रेता द्वारा लॉक किया गये चालान ही क्रेता द्वारा इनपुट टेक्स क्रेडिट के दावे के लिए एक वैध दस्तावेज होगा।

आपूर्तिकर्ताओं को अगले महीने की 20 तारीख तक एक महीने के दौरान की गई आपूर्ति पर कर देयता का भुगतान करना होगा। आपूर्तिकर्ताओं को जीएसटी पोर्टल पर अपनी आपूर्ति के लिए लगातार चालान अपलोड करने की सुविधा भी होगी। इन चालानों को तुरन्त जीएसटी पोर्टल में क्रेताओं को दिखाया जाएगा और उन्हें लॉक किया जा सकता है। एक महीने के लिए इनपुट कर क्रेडिट की गणना अगले महीने की 10 तारीख तक आपूर्तिकर्ताओं द्वारा अपलोड किए गए चालानों के आधार पर की जाएगी। नए जीएसटी रिटर्न के अन्तर्गत इनपुट टैक्स क्रेडिट नियमों के अनुसार, अगले महीने की 10 वीं तारीख के बाद आपूर्तिकर्ताओं द्वारा अपलोड किए गए चालानों को अगले महीने के आईटीसी में सम्मिलित किया जाएगा।

आइए नए जीएसटी रिटर्न के तहत इनपुट टैक्स क्रेडिट नियमों को समझने के लिए एक उदाहरण लें:

उदाहरण : सुपर कार प्रा.लि. राकेश ऑटोमोबाईल को कारों की आपूर्ति करती है. अप्रेल 2019 में सुपर कार प्रा. लि. राकेश ऑटोमोबाईल को निम्नलिखित संख्या में कारों की आपूर्ति करती है:

चालान की तिथिसुपर कार प्रा.लि. द्वारा चालान अपलोड करने की तिथिसुपर कार प्रा.लि. के रिटर्न जिसमें उसे दायित्व का भुगतान करना हैरिटर्न जिसमें राकेश ऑटोमोबाईल इनपुट टेक्स क्रेडिट का लाभ ले सकते हैं
5th अप्रैल 201925th अप्रैल 2019अप्रैल 2019अप्रैल 2019
15thअप्रैल 20199th मई 2019अप्रैल 2019अप्रैल 2019
30th अप्रैल 201912th मई 2019अप्रैल 2019मई 2019

उपरोक्त तालिका में,

5 अप्रैल 2019 के चालान के लिए, सुपर कार 25 अप्रैल 2019 को चालान अपलोड करती हैं। अप्रैल 2019 में आपूर्ति के लिए सुपर कार को अप्रैल 2019 में आपूर्ति पर देयता का भुगतान करना होगा। राकेश ऑटोमोबाइल अप्रैल 2019 में आपूर्ति पर इनपुट कर क्रेडिट का लाभ उठा सकते हैं, क्योंकि सुपर कार ने 10 मई 2019 के पहले चालान अपलोड किया है।

15 अप्रैल 2019 के चालान के लिए, सुपर कार 9 मई 2019 को चालान अपलोड करती हैं। अप्रैल 2019 में आपूर्ति के लिए सुपर कार को अप्रैल 2019 में आपूर्ति पर देयता का भुगतान करना होगा। राकेश ऑटोमोबाइल अप्रैल 2019 में आपूर्ति पर इनपुट कर क्रेडिट का लाभ उठा सकते हैं, क्योंकि सुपर कार ने 10 मई 2019 के पहले चालान अपलोड किया है।

30 अप्रैल 2019 के चालान के लिए, सुपर कार 12 मई 2019 को चालान अपलोड करती हैं। अप्रैल 2019 में आपूर्ति के लिए सुपर कार को अप्रैल 2019 में आपूर्ति पर देयता का भुगतान करना होगा। राकेश ऑटोमोबाइल मई 2019 में आपूर्ति पर इनपुट कर क्रेडिट का लाभ उठा सकते हैं, क्योंकि सुपर कार ने 10 मई 2019 के बाद चालान अपलोड किया है।

इसलिए, करदाता जीएसटी कार्यान्वयन के अगले चरण में इनपुट टेक्स क्रेडिट का दावा करने के लिए एक व्यवस्थित और सरलीकृत प्रक्रिया की उम्मीद कर सकते हैं। हालांकि, क्रेता के इनपुट टेक्स क्रेडिट का आपूर्तिकर्ता के चालान पर केंद्रित होना, पूरी प्रणाली की एक महत्वपूर्ण विशेषता है। इसलिए, करदाताओं के लिएनए जीएसटी रिटर्न के तहत इनपुट टैक्स क्रेडिट नियमों के बारे में जागरूक होना और उनके आपूर्तिकर्ताओं को ध्यान से चुनना महत्वपूर्ण है।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

57,037 total views, 51 views today