भारत के कई व्यवसायों की दुनिया के विभिन्न देशों में शाखाएं हैं। ऐसे परिदृश्य हैं जहां भारत में एक व्यवसाय इकाई एक अलग देश में अपनी शाखा को सेवाएं प्रदान करती है। GST के तहत इस तरह की आपूर्ति कैसे की जाएगी? क्या उन्हें सेवा निर्यात के रूप में माना जाएगा और इसलिए, शून्य दर होगी, क्या उन्हें गैर-कर योग्य आपूर्ति माना जाएगा क्योंकि सेवा की आपूर्ति का स्थान भारत के बाहर है या क्या वें कर योग्य होंगी? आइए हम समझें कि भारत में एक इकाई से भारत के बाहर एक शाखा में सेवा की आपूर्ति GST के तहत कैसे की जाएगी।

GST के तहत विदेशी शाखाओं को प्रदान की गई सेवाओं को देखना

एक सेवा की आपूर्ति को निर्यात के रूप में मानने के लिए, कुछ शर्तों को निर्धारित किया गया है, जिनकी हमने अपने पहले r ब्लॉग में चर्चा की है।
आइए हम उन्हें फिर से सूचीबद्ध करें:

    1. सेवा का आपूर्तिकर्ता भारत में स्थित होना चाहिए।
    2. सेवा का प्राप्तकर्ता भारत के बाहर स्थित होना चाहिए।
    3. सेवा की आपूर्ति की जगह भारत के बाहर होनी चाहिए
    4. सेवा के लिए भुगतान आपूर्तिकर्ता द्वारा परिवर्तनीय विदेशी मुद्रा में प्राप्त किया जाना चाहिए, और
    5. आपूर्तिकर्ता और प्राप्तकर्ता एक ही व्यक्ति के प्रतिष्ठान नहीं हों

जब भारत में एक इकाई द्वारा भारत के बाहर एक शाखा में सेवा प्रदान की जाती है, तो उपरोक्त सभी शर्तों को संतुष्ट किया जा सकता है, सिवाय ‘आपूर्तिकर्ता और प्राप्तकर्ता एक ही व्यक्ति के प्रतिष्ठान न हों’। चूंकि भारत में इकाई और भारत के बाहर की शाखा एक ही व्यक्ति के प्रतिष्ठान हैं, इस आपूर्ति को सेवा के निर्यात के रूप में नहीं माना जा सकता है। इसका यह भी अर्थ है कि भारत से बाहर की शाखा के लिए सेवा की आपूर्ति शून्य दर नहीं होगी और इसलिए, इनपुट पर भुगतान किया जाने वाला कर वापस नहीं किया जाएगा।
यह आपूर्ति भी एक गैर-कर योग्य आपूर्ति नहीं होगी क्योंकि यह छूट की आपूर्ति के बीच सूचीबद्ध नहीं है। पिछली कर व्यवस्था में, विदेशी शाखाओं को प्रदान की गई सेवाओं को गैर-कर योग्य आपूर्ति माना जाता था, क्योंकि सेवा के प्रावधान की जगह भारत के बाहर है। हालांकि, यह GST के तहत जारी नहीं रहेगा।
इसलिए, विदेशी शाखा में सेवा की आपूर्ति GST के तहत कर योग्य आपूर्ति होगी। इस तरह की आपूर्ति पर, IGST को लागू दर पर लगाया जाना चाहिए, क्योंकि आपूर्ति की जगह भारत के बाहर है।
उदाहरण: महाराष्ट्र में रमेश सॉल्यूशंस की सिंगापुर में एक शाखा है, जिस को यह 2,00,000 रुपये में परामर्श सेवाएं प्रदान करता है। इस आपूर्ति पर, रमेश सॉल्यूशंस 18% पर IGST का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी है, जो कि 36,000 रुपये है।

निष्कर्ष

ऐसे व्यवसाय जिनके पास भारत के बाहर स्थित स्थानों में परियोजनाएं या कार्यालय हैं, उन्हें विदेशी शाखाओं को प्रदान की गई सेवाओं के कर उपचार में परिवर्तन को ध्यान में रखना चाहिए। GST के तहत, ऐसी सेवाएं कर योग्य होगी। इसलिए, यह व्यवसाय के लिए एक अतिरिक्त लागत बन जाएगा और इसके लिए उचित प्रावधान किए जाने की आवश्यकता है।

Are you GST ready yet?

Get ready for GST with Tally.ERP 9 Release 6

20,586 total views, 18 views today